Home » इंडिया » mulayam singh warn to amar singh don't interfere in parti matter
 

कुनबे में घमासान के बाद मुलायम ने अमर को चेताया, 'अपनी हद में रहें'

कैच ब्यूरो | Updated on: 16 September 2016, 13:51 IST
(एजेंसी)

उत्तर प्रदेश में सत्तारूढ़ समाजवादी पार्टी की सरकार और पार्टी अध्यक्ष मुलायम सिंह के परिवार में मचे राजनीतिक घमासान पर पानी डालने की पहल अब खुद मुलायम सिंह यादव को ही करनी पड़ रही है.

इससे पहले इस बात के कयास लगाए जा रहे थे कि इस पूरे विवाद की धुरी कहीं न कहीं राज्यसभा सांसद और मुलायम सिंह के खास दोस्त अमर सिंह के इर्द-गिर्द है.

इससे पहले यूपी के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने आरोप भी लगाया था कि कुछ “बाहरी लोग” उनके पिता और पार्टी प्रमुख मुलायम सिंह यादव को गलत सलाह दे रहे हैं. माना जा रहा है कि बाहरी के रूप में उनका इशारा अमर सिंह की तरफ था.

अखिलेश के अलावा मुलायम के चचेरे भाई और पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव रामगोपाल यादव ने भी इस बात की पुष्टि करते हुए कहा था कि कुछ बाहरी लोग नेताजी की सरलता का लाभ उठा रहे हैं.

सूत्रों के मुताबिक इस तरह की बयानबाजी के बाद गुरुवार को सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह ने फोन करके अमर सिंह को चेतावनी दी कि वो खुद को राज्यसभा तक सीमित रखें, समाजवादी पार्टी या यूपी सरकार के मामलों में कतई दखल न दें.

अंग्रेजी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक गुरुवार शाम को मुलायम ने अमर सिंह को फोन करके उन्हें गुमराह करने के लिए फटकार लगाई.

ऐसा माना जा रहा है कि कुनबे को बिखरने से बचाने के लिए मुलायम सिंह यादव अब बेटे अखिलेश का पक्ष लेंगे. यही कारण है कि शिवपाल ने दबाव बनाने के लिए पार्टी और सरकार के सभी पदों से इस्तीफा दे दिया, लेकिन सीएम अखिलेश ने और पार्टी प्रमुख मुलायम ने उनके इस्तीफे को नामंजूर कर दिया है.

गौरतलब है कि यूपी में अगले साल विधानसभा चुनाव होने वाले हैं. ऐसे में समाजवादी पार्टी इस झगड़े के कारण पूरी तरह से परिवारवादी पार्टी के तौर पर नजर आ रही है, जिसका फायदा विपक्ष चुनाव के दौरान जरूर उठा सकता है.

First published: 16 September 2016, 13:51 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी