Home » इंडिया » Mumbai: Devendra Fadnavis took oath as Maharashtra Chief Minister again with support of NCP
 

महाराष्ट्र में सबसे बड़ा उलटफेर, फिर CM बने देवेंद्र फडणवीस, सोती रह गई शिवसेना

कैच ब्यूरो | Updated on: 23 November 2019, 9:20 IST

Devendra Fadnavis CM: महाराष्ट्र में भारतीय राजनीति का सबसे बड़ा उलटफेर हुआ. आज सुबह बीजेपी ने एनसीपी के साथ मिलकर सरकार बना ली और शिवसेना देखती रह गई. राज्य के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने देवेंद्र फडणवीस को दोबारा महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाई. इसके अलावा एनसीपी के अजित पवार ने उप-मुख्यमंत्री पद की शपथ ली.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देवेंद्र फडणवीस को दोबारा सीएम बनने की बधाई दी. पीएम मोदी ने कहा, देवेंद्र फडणवीस और अजित पवार को क्रमशः मुख्यमंत्री और उप मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने पर बधाई. उन्होंने कहा कि मुझे विश्वास है कि वे महाराष्ट्र के उज्ज्वल भविष्य के लिए लगन से काम करेंगे.

महाराष्ट्र विधानसभा में 21 अक्टूबर को चुनाव हुआ था और 24 अक्टूबर को नतीजे आए थे. 288 सीटों वाले विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी 105 सीट जीतकर सबसे बड़ी पार्टी बनी थी. चुनाव पूर्व बीजेपी और शिवसेना में गठबंधन हुआ था, लेकिन शिवसेना ढाई-ढाई साल मुख्यमंत्री के पद के लिए अड़ गई थी. इसके बाद बीजेपी और शिवसेना में सरकार बनाने को लेकर बात नहीं बन पाई थी.

इसके बाद शिवसेना लगातार एनसीपी और कांग्रेस के संपर्क में थी. एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार उन्हें लगातार समर्थन की बात करते रहे थे. लेकिन रातों-रात उनके भतीजे अजित पवार ने राजनीति का ऐसा छक्का मारा, जिससे गेंद स्टेडियम के बाहर चली गई. आज सुबह होते-होते देवेंद्र फडणवीस ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ले ली और अजीत पवार डिप्टी सीएम बन गए.

इससे पहले राज्य में किसी पार्टी का सरकार बनाने का दावा पेश नहीं करने की वजह से राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने राज्य में 12 नवंबर को राष्ट्रपति शासन की अनुशंसा की थी. जिसके बाद राज्य में राष्ट्रपति शासन लग गया था. शिवसेना ने मुख्यमंत्री के पद की मांग को लेकर बीजेपी से 30 साल पुराना गठबंधन तोड़ दिया था. 

महाराष्ट्र के सीएम पद की दोबारा शपथ लेने के बाद देवेंद्र फडणवीस ने राज्य की जनता, पीएम मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह को धन्यवाद दिया. देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि जनता ने हमें स्पष्ट जनादेश दिया था, लेकिन शिवसेना ने जनादेश का अपमान किया. फडणवीस ने कहा कि महाराष्ट्र की जनता को स्थिर और स्थाई सरकार चाहिए, खिचड़ी सरकार नहीं चाहिए. महाराष्ट्र के उज्जवल भविष्य के लिए एनसीपी के साथ मिलकर काम करेंगे.

इलेक्टोरल बॉन्ड के मुद्दे पर घिरी BJP, कांग्रेस बोली- आतंकी फंडिंग के आरोपी से लिया चंदा

रंजन गोगोई ने रिटायरमेंट के दो दिन बाद ही खाली किया सरकारी बंगला, रह सकते थे एक महीना और

First published: 23 November 2019, 8:27 IST
 
अगली कहानी