Home » इंडिया » mumbai: rajan gang killed jd for his book
 

सीबीआई: मिड-डे के पत्रकार जेडे अपनी किताब की वजह से मारे गए

कैच ब्यूरो | Updated on: 6 August 2016, 16:09 IST
(एजेंसी)

साल 2011 में मुंबई के पवई इलाके में मारे गए मिड-डे के पत्रकार ज्योतिर्मय डे (जेडे) हत्याकांड में सीबीआई ने शुक्रवार को चार्जशीट दायर की.

इसमें सीबीआई की ओर से कहा गया है कि 5 साल पहले छोटा राजन ने अंडरवर्ल्ड पर किताब लिखने के कारण जेडे की हत्या का आदेश दिया था. सीबीआई ने इस मामले में राजन को 12वां आरोपी बनाया है.

चार्जशीट में किये दावे के मुताबिक 11 जून 2011 को मिड-डे के लिए काम करने वाले पत्रकार जेडे को पवई में उनके घर के बाहर चार मोटरसाइकिल सवार लोगों ने केवल इसलिए मौत के घाट उतार दिया, क्योंकि वह मुंबई अंडरवर्ल्ड पर दो किताबें लिख रहे थे.

सीबीआई ने मुंबई की मकोका कोर्ट में दाखिल 300 पेज की चार्जशीट में कहा कि जेडे की एक किताब छोटा राजन समेत 20 गैंगस्टर्स पर आधारित थी, जिसका टाइटल चिंदी- रंक से राजा (Chindi-Rags to Riches) था और दूसरी किताब दाऊद इब्राहिम पर थी, जिसमें बताया गया था कि कैसे एक छोटा-सा स्मगलर बिना एक भी गोली चलाए इंटरनेशनल डॉन बन जाता है.

सीबीआई का मानना है कि छोटा राजन को संदेह था कि उसके प्रतिद्वंद्वी को अच्छी तरह से चित्रित किया जा रहा है, जिसको लेकर राजन नाराज था. सीबीआई के मुताबिक राजन के खिलाफ लिखे गए डे के कुछ आर्टिकल्स पर भी उसे नाराजगी थी.

चार्जशीट बताती है कि 20 गैंगस्टर्स पर लिखी जा रही किताब में जेडे ने अपने सूत्रों (सोर्सेस) से हासिल सामग्री में कछ ऐसी बातें बताई थी, जिससे छोटा राजन का देशभक्त होने का झूठा मुखौटा उतर जाता.

इसी से वह खुद को सुरक्षित रखता था और अपने परिवार के लिए धन जमा करता था. किताब में कहा गया था कि राजन को उन लोगों की कोई चिंता नहीं थी, जिन्होंने राजन को एक बड़ा नाम बनाने में अपनी जान दे दी.

सीबीआई का कहना है कि किताब में चिंदी शब्द का प्रयोग किया गया था, जो सामान्य तौर पर गाली और अपमान की नजर से देखा जाता है, जो राजन और उसके गैंग को नहीं पसंद था.

जेडे की ओर से लिखी जा रही किताब और आर्टिकल्स के अलावा एक और आर्टिकल था, जिसमें राजन का ‘बुढ़ापा’ यानी राजन की बढ़ती हुई उम्र को दिखाया गया था.

इन सबके बाद राजन गिरोह ने जेडे की हत्या का फैसला लिया. सीबीआई ने कहा कि उन्होंने गिरफ्तार पत्रकार जिग्ना वोरा और राजन के बीच बातचीत का ब्योरा भी आरोप-पत्र में शामिल किया है. एजेंसी ने कहा कि राजन की रिकॉर्डेड आवाज का नमूना छोटा राजन और जिग्ना के बीच हुई बातचीत से मेल खाता है.

First published: 6 August 2016, 16:09 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी