Home » इंडिया » Mumbai: Traffic policeman helps in finding a bag full of gold ornaments in Auto Rickshow
 

सोने के गहनों से भरा बैग छूटा ऑटो में, ढूंढने में ट्रैफिक पुलिसकर्मी ने ऐसे की मदद, हो रही जमकर तारीफ

कैच ब्यूरो | Updated on: 19 February 2021, 15:56 IST

Viral News: अगर आपका कोई सामान बस या ऑटो में छूट गया है, तो बहुत कम ही उम्मीद होती है कि वह बैग आपको वापस मिले. उस पर अगर बैग सोने से आभूषणों से भरा हो तो उसका वापस मिलना काफी मुश्किल है. लेकिन पुलिस प्रशासन चाह ले तो क्या नहीं हो सकता. कुछ ऐसा ही हुआ मुंबई में.

मुंबई से एक परिवार औरंगाबाद जा रहा था. उस परिवार के पास सोने के गहनों से भरा एक बैग था. गलती से वह बैग एक ऑटो रिक्शा में छूट गया. लेकिन मुंबई की ट्रैफिक पुलिस के एक कर्मचारी की तत्परता और चतुराई की वजह से परिवार को वह बैग वापस मिल गया. सोशल मीडिया पर पुलिसकर्मी की जमकर बड़ाई हो रही है.

ट्रैफिक पुलिसकर्मी प्रदीप मोरे ने मुंबई से कुछ ही घंटों में बैग ढूंढकर परिवार को लौटा दिया. दरअसल, जल्दबाजी में परिवार 13 तोला सोने से भरा बैग ऑटो रिक्शा में भूल गया था. परिवार दिंडोशी में ऑटो से उतरा था, इसके बाद वह अपने गांव जाने वाली बस में बैठा तो उन्हें याद आया कि बैग ऑटो रिक्शा में रह गया. 

आजाद भारत में पहली बार एक महिला को फांसी पर लटकाने की तैयारी, पूरे परिवार की कर दी थी हत्या

इसके बाद परिवार ने बस से उतरकर फिर से ऑटो की तलाश करनी शुरू की, हालांकि वह ऑटो नहीं मिली. इसके बाद परिवार ने करार पुलिस थाने में इसकी शिकायत दर्ज कराई. वह परिवार दिंडोशी ट्रैफिक डिविजन के पुलिसकर्मी प्रदीप मोरे के पास गया तो उन्होंने बैग खोजने का भरोसा दिलाया.

इसके बाद उन्होंने सीसीटीवी फुटेज खंगालकर सबसे पहले उस ऑटो का नंबर पता किया. नंबर के माध्यम से ऑटो रिक्शा वाले का पता लगाया गया. प्रदीप मोरे ने अपने एक  साथी पुलिसकर्मी के भाई को फोन कर उस पते पर तुरंत जाकर ऑटो मालिक से मिलने को कहा. इसके बाद उसे पास के आरसीएफ पुलिस थाने ले जाने को कहा. जहां से बैग मिल गया और परिवार के पास वापस आ गया.

West Bengal : बहुत प्रयास हुआ कि सुभाष बाबू को भुला दिया जाए- अमित शाह

पतंजलि ने COVID-19 की प्रथम साक्ष्य-आधारित दवा पर जारी किया वैज्ञानिक शोध पत्र

 
First published: 19 February 2021, 15:56 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी