Home » इंडिया » mumbai: trupti desai enters haji ali dargah
 

हाजी अली से तृप्ति देसाई ने महिलाओं के प्रवेश की मांगी दुआ

कैच ब्यूरो | Updated on: 12 May 2016, 11:16 IST

भूमाता रणरागिनी ब्रिगेड की अध्यक्ष तृप्ति देसाई गुरुवार की सुबह पुलिस की कड़ी सुरक्षा में हाजी अली की दरगाह पहुंचीं. हालांकि दरगाह के अंदर प्रवेश करने में वो एक बार फिर नाकाम रहीं.

दरगाह में उन्हें उस सीमा तक जाने दिया गया, जहां आम तौर पर महिलाओं के जाने की छूट होती है. देसाई को दरगाह के भीतरी हिस्से में प्रवेश नहीं करने दिया गया.

दरगाह में जाने के बाद तृप्ति देसाई ने कहा कि वो बिना किसी को सूचना दिए वहां गई थीं. देसाई ने कहा कि मैंने महिलाओं के मज़ार तक जाने के लिए हाजी अली से दुआ मांगी.

hazi-ali

इसके बाद देसाई ने हाजी अली दरगाह के प्रबंधन से निवेदन किया कि वो मजार तक महिलाओं को जाने की अनुमति प्रदान करें, नहीं तो वो 15 दिन बाद फिर हाजी अली दरगाह आएंगी.

वहीं इस मामले में हाजी अली दरगाह के प्रबंधन ने बताया कि तृप्ति देसाई को माथा टेकने की इजाजत दी गई थी लेकिन उन्हें दरगाह के भीतरी हिस्से में प्रवेश की इजाजत नहीं दी गई.

दरगाह में देसाई के मौजूद रहने तक दरगाह प्रबंधन के लोग पूरे समय उनके साथ रहे.

दरगाह के दरवाजे पर माथा टेका


प्रबंधन ने इस मामले में आगे कहा कि उन्हें दरगाह के अंदर नहीं जाने दिया गया, वह गेट पर ही माथा टेक कर वापस लौट गईं. जहां तक हर महिला को जाने की इजाजत है तृप्ति देसाई को भी वहीं तक जाने दिया गया.

दरगाह प्रबंधन के मुताबिक तृप्ति देसाई को मुख्य मजार के भीतरी हिस्से में प्रवेश की इजाजत नहीं दी गई.

पढ़ें: हाजी अली दरगाह में तृप्ति देसाई को नहीं मिला प्रवेश

गौरतलब है कि इससे पूर्व भी तृप्ति देसाई ने हाजी अली की में प्रवेश करने का प्रयास किया था, लेकिन उन्हें रास्ते में ही रोक लिया गया था.

मुस्लिम धर्म में ऐसी मान्यता है कि मजार में महिलाओं को प्रवेश नहीं करना चाहिए और देसाई इस परंपरा का विरोध कर रही हैं.

वहीं एआईएमआईएम के नेता हाजी रफत हुसैन ने कहा है कि उन्हें खुशी है कि तृप्ति देसाई आज दरगाह आईं, लेकिन उन्हें पुलिस के साथ नहीं आना चाहिए.

haji tripti

हाजी रफत हुसैन ने साथ ही कहा कि तृप्ति देसाई को अब किसी पारसी मंदिर में जाना चाहिए, जिससे पता चल सके कि वो न्याय के लिए लड़ रही हैं या फिर ये उनका पब्लिसिटी स्टंट है.

मंदिरों में प्रवेश की चलाई थी मुहिम


तृप्ति देसाई ने इससे पहले महाराष्ट्र के अहमदनगर जिले के प्रसिद्ध शनी शिंगणापुर मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर रोक के विरोध में अभियान चलाया था.

इसके बाद हाई कोर्ट के आदेश पर सरकार ने दखल देकर मंदिर में महिलाओं को प्रवेश और पूजा करने का अधिकार दिलाया था. साथ ही तृप्ति ने नासिक के त्र्यंबकेश्वर ज्योतिर्लिंग में भी महिलाओं को प्रवेश दिलाने की सफल मुहिम चलाई.

First published: 12 May 2016, 11:16 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी