Home » इंडिया » Mumbai: Trupti Desai fails to enter Haji Ali dargah
 

हाजी अली दरगाह में तृप्ति देसाई को नहीं मिला प्रवेश

कैच ब्यूरो | Updated on: 29 April 2016, 10:11 IST

महाराष्ट्र के शनि शिंगणापुर मंदिर में महिलाओं को प्रवेश दिलाने वाली भूमाता रणरागिनी ब्रिगेड की अध्यक्ष तृप्ति देसाई ने दो बार मुंबई की हाजी अली दरगाह में घुसने की कोशिश की, लेकिन उन्हें कामयाबी नहीं मिली.

बाद में जब तृप्ति अपने समर्थकों के साथ मुख्यमंत्री निवास की ओर बढ़ने लगीं, तो मुंबई पुलिस ने उन्हें हिरासत में ले लिया. 

trupti

पीटीआई

तृप्ति ने इससे पहले जब अपने समर्थकों के साथ दरगाह में घुसने की कोशिश की, तो वहां मौजूद लोगों के विरोध की वजह से पुलिस ने उन्हें जाने से रोक दिया. सुबह से ही दरगाह के पास हालात तनावपूर्ण थे.

एमआईएम, समाजवादी पार्टी और अवामी पार्टी के कार्यकर्ता दोपहर से ही तृप्ति देसाई के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे थे. 

वहीं हाजी अली दरगाह में प्रवेश के लिए बॉम्बे हाईकोर्ट में याचिका दाखिल करने वाली भारतीय मुस्लिम महिला आंदोलन की महिलाएं दरगाह के एंट्री गेट पर प्रदर्शन कर रही थीं. 

समाजवादी महिला विंग खिलाफ


समाजवादी महिला विंग का कहना है कि तृप्ति ये सब प्रसिद्धि हासिल करने के लिए कर रही हैें. तृप्ति देसाई ने मामले में बॉलीवुड के तीनों सुपरस्टार खान (सलमान, शाहरुख और आमि‍र) से अपील की है कि वो इस मामले में अपना रुख साफ करें. 

तृप्ति‍ ने कहा, "मुझे लगता है कि शाहरुख, सलमान खान और आमिर खान को भी इस मामले में अपना रुख साफ करना चाहिए. इससे समाज पर बड़ा असर पड़ेगा. ऐसा करने से उनके फैंस भी हमारी बराबरी की लड़ाई में साथ जुड़ेंगे."

महिलाओं को इबादत का का समान हक दिलाने की मुहिम के तहत तृप्ति ने पहले ही 28 अप्रैल को हाजी अली दरगाह जाने का एलान किया था. उनके इस कदम का एआईएमआईएम और दूसरे धार्मिक संगठन भी विरोध कर रहे हैं. 

पढ़ें:अब हाजी अली दरगाह में प्रवेश करेंगी तृप्ति देसाई, शिवसेना ने किया विरोध

सपा-एमआईएम की धमकी


वहीं गुरुवार को टकराव की स्थिति को देखते हुए एहतियातन पुलिस ने दरगाह के चारों ओर बैरिकेडिंग की. समाजवादी पार्टी के महाराष्ट्र अध्यक्ष और विधायक अबू आसिम आजमी ने कहा कि अगर तृप्ति दरगाह में घुसने की कोशिश करेंगी तो उन्हें धक्के मारकर बाहर निकाल देंगे. 

वहीं मुंबई में एमआईएम नेता हाजी रफत हुसैन ने धमकी दी कि तृप्ति अगर दरगाह में घुसने की कोशिश करेंगी, तो उन्हें कालिख पोत दी जाएगी. हुसैन का कहना है कि तृप्ति मुस्लिम महिलाओं को भड़काने की कोशिश कर रही हैं. 

mim

इससे पहले तृप्ति देसाई शनि शिंगणापुर और नासिक के त्र्यंबकेश्वर मंदिर के गर्भ गृह में पूजा-अर्चना कर चुकी हैं. देसाई ने कहा कि 2011 के पहले तक हाजी अली दरगाह में महिलाओं को मजार तक प्रवेश की इजाजत थी. 

लेकिन उसके बाद दरगाह के ट्रस्ट ने महिलाओं के दरगाह के अंदर जाने पर पूरी तरह से रोक लगा दी. तृप्ति का कहना है कि हम इस परंपरा को तोड़ेंगे और ऐसी जगहों पर महिलाओं को बराबरी का हक दिलवाएंगे.

पढ़ें:कोल्हापुर के मंदिर में प्रवेश को लेकर तृप्ति देसाई पर हमला

2011 से महिलाओं का प्रवेश बंद


हाजी अली दरगाह में 2011 से महिलाओं का प्रवेश बंद है. मुंबई में बाबा हाजी अली शाह बुखारी की दरगाह का निर्माण 1631 में हुआ था. यहां भारत के अलावा दुनिया भर से लोग आते हैं.

तृप्ति देसाई ने बुधवार को आरएसएस के सरसंघचालक मोहन भागवत को एक पत्र लिखा था, जिसमें उन्होंने मिलने का वक्त मांगा. साथ ही तृप्ति ने महिलाओं को बराबर अधिकार देने की मांग की है. 

First published: 29 April 2016, 10:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी