Home » इंडिया » Municipal corporation of Indore demolished that building for which Akash Vijayvargiya thrashed officer
 

काम नहीं आई आकाश विजयवर्गीय की 'बल्लेबाजी’ नगर निगम ने गिरा दी बिल्डिंग

कैच ब्यूरो | Updated on: 5 July 2019, 13:11 IST
(File Photo)

बीजेपी विधायक आकाश विजयवर्गीय को भले ही नगर निगम के एक अधिकारी को क्रिकेट बैट से पीटने के आरोप में जेल जाना पड़ा हो, लेकिन उनकी ये 'बल्लेबाजी' काम नहीं आई. क्योंकि इंदौर नगर निगम में शुक्रवार को उस इमारत को जमींदोज कर दिया. जिसके तोड़ने का विरोध करने के लिए आकाश विजयवर्गीय ने निगम के कर्मचारी की पिटाई कर दी थी.

बता दें कि बीजेपी विधायक आकाश विजयवर्गीय ने 26 जून को नगर निगम के अधिकारियों की क्रिकेट बैट से उस वक्त पिटाई कर दी थी जब वह एक इमारत को तोड़ने पहुंचे थे. इस दौरान निगम के अधिकारियों से आकाश की झड़प हो गई और गुस्से में उन्होंने निगम के अधिकारियों को बल्ले से पीटना शुरु कर दिया.

बता दें कि इससे पहले मंगलवार को मध्यप्रदेश हाईकोर्ट ने इस मकान को जमींदोज करने के इंदौर नगर निगम के फैसले पर रोक लगाने वाली याचिका को खारिज कर दिया था. कोर्ट ने इस मुहिम से प्रभावित होने वाले परिवार को तुरंत राहत देते हुए शहरी निकाय को आदेश दिया था कि मकान जमींदोज किए जाने से पहले उसे दो दिन के भीतर अस्थायी निवास की वैकल्पिक सुविधा मुहैया कराई जाए.

हाईकोर्ट की इंदौर पीठ के न्यायाधीश रोहित आर्य ने करीब सवा घंटे दोनों पक्षों के तर्क सुनने के बाद इसपर फैसला सुनाया. प्रभावित परिवार के वकील पुष्यमित्र भार्गव ने बताया था कि अदालत ने दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद कहा कि जर्जर मकानों को जमींदोज करने की इंदौर नगर निगम की मुहिम चूंकि जनता के व्यापक हितों में है इसलिए वह इस अभियान में दखल नहीं दिया जाएगा.

गुजरात के पूर्व गृह मंत्री हरेन पांड्या की हत्या मामले में 12 दोषी करार

First published: 5 July 2019, 13:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी