Home » इंडिया » muslim law board accept supreme court decision on 3 talaq
 

मुस्लिम लॉ बोर्ड को तीन तलाक पर सुप्रीम कोर्ट का निर्णय होगा स्वीकार्य

कैच ब्यूरो | Updated on: 21 May 2017, 14:59 IST
talaq

ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने तीन तलाक के मामले पर कहा है कि सुप्रीम कोर्ट का जो भी फैसला होगा उसे वह स्वीकार करेगा और निर्णय आने के बाद आगे की रणनीति तय करेगा.

पर्सनल लॉ बोर्ड के महासचिव मौलाना वली रहमानी ने कहा, ‘‘अदालत का फैसला आने के बाद ही कुछ स्पष्ट कहा जा सकेगा. वैसे हमने न्यायालय में अपना पक्ष मजबूती से रखा है और ऐसे में बेहतर होने की उम्मीद की जानी चाहिए.’’

उन्होंने कहा, ‘‘अदालत का जो भी फैसला होगा, वो हम मानेंगे. अदालत कोई आंख बंद करके फैसला नहीं करने जा रही है, यह तय है. यह कोई ऐसा मसला नहीं है जिसमें कोई उलझाव पैदा हो. अदालत ने जो कहा वो हमने कर दिया.’’

गौरतलब है कि प्रधान न्यायाधीश न्यायमूर्ति जेएस खेहर के नेतृत्व वाली उच्चतम न्यायालय की पांच सदस्यीय पीठ ने तीन तलाक के मामले पर सभी पक्षों की दलीलें सुनने के बाद फैसला सुरक्षित रख लिया था.

यह पूछे जाने पर कि अदालत का फैसला बोर्ड के रुख के खिलाफ आने पर क्या 1980 के दशक के शाह बानो प्रकरण की तरह के हालात पैदा हो सकते हैं तो मौलाना रहमानी ने कहा, ‘‘इस बारे में कुछ कहना जल्दबाजी होगी. उस वक्त के हालात दूसरे थे, इस समय हालात दूसरे हैं. जब तक अदालत का निर्णय नहीं आ जाता तब तक कुछ कहना या फैसला करना मुश्किल है.’’

तीन तलाक पर देश की मीडिया के रुख को लेकर कटाक्ष करते हुए रहमानी ने कहा, ‘‘मीडिया के रुख को देखकर ऐसा लगता है कि भारत का सबसे अहम मामला तीन तलाक है. पिछले डेढ़ साल से टीवी पर यही बहस चल रही है. मीडिया का अपना बिजनेस है और वह इसी को ध्यान में रखकर बहस कर रहा है.’’

बोर्ड पर उठाए जा रहे सवालों के संदर्भ में उन्होंने कहा, ‘‘बोर्ड के बारे में लोग अपने हिसाब से बातें करते हैं. कभी कहते हैं कि बोर्ड रूढ़िवादी है और कभी कहते हैं कि वह सुधार करना चाहता है. लोगों को जो कहना है वो कहेंगे. हम लोगों को बोलने से तो रोक नहीं सकते.’’

मौलाना वली रहमानी ने दावा किया कि तीन तलाक के मामले में मुस्लिम समुदाय का रुख पर्सनल लॉ बोर्ड के साथ है. उन्होंने कहा, ‘‘मुस्लिम समुदाय का रुख स्पष्ट है. बोर्ड के पक्ष में चार करोड़ 80 लाख से अधिक लोगों ने हस्ताक्षर किए हैं. इनमें दो करोड़ 72 लाख महिलाओं के हस्ताक्षर शामिल हैं. इससे साफ है कि समुदाय का रुख किस तरफ है.’’

तीन तलाक के मामले पर पाकिस्तान और कुछ दूसरे मुस्लिम देशों द्वारा उठाए गए कदमों का हवाला दिए जाने पर मौलाना रहमानी ने कहा, ‘‘गलत तथ्य पेश किए जा रहे हैं. चीजें मौजूद हैं, लेकिन सही ढंग से बताई नहीं जा रही हैं. लोग पाकिस्तान का नाम ले रहे हैं. हम कोई पाकिस्तान के पिछलग्गू थोड़े हैं.’’

देश में गोरक्षा के नाम पर हो रही हिंसक घटनाओं का हवाला देते हुए रहमानी ने कहा, ‘‘इस तरह की घटनाएं बहुत गंभीर हैं. इस पर बहस नहीं हो रही है. सब खामोश हैं. इसको लेकर सरकार को कड़े कदम उठाने चाहिए.’’

First published: 21 May 2017, 14:59 IST
 
अगली कहानी