Home » इंडिया » Muzaffarnagar Riot 2013: Prime witness Sodan Singh found hanging in his village
 

मुजफ्फरनगर दंगा 2013: मुख्य गवाह की लाश फंदे से लटकते मिली, हत्या की आशंका

कैच ब्यूरो | Updated on: 25 December 2018, 12:10 IST

मुजफ्फरनगर में साल 2013 में सचिन और गौरव नामक युवकों की हत्या के बाद दंगे भड़क उठे थे. उन दो युवकों की हत्या के मुख्य गवाह सोदान सिंह की फंदे पर लटकती लाश मिली है. सोदान सिंह का शव रहस्यमय परिस्थितियों में फंदे से लटका बरामद हुआ. सोदान सिंह की लाश मिलने के बाद बवाल मच गया है. उनके परिवार ने हत्या का आरोप लगाया है.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, 58 वर्षीय सोदान सिंह की लाश शनिवार(22 दिसंबर) को उनके गांव सिखेड़ा के ट्यूबवेल के पास बरामद हुई. लाश मिलते ही इलाके में सनसनी मच गई. इसके बाद तुरंत पुलिस को बुलाया गया. पुलिस ने लाश अपने कब्जे में कर ली. इस मामले को जहां पुलिस आत्महत्या बता रही है. वहीं, मृतक के बेटे रविंदर ने हत्या का आरोप लगाया है.

पढ़ें- छत्तीसगढ़ : एक्शन में बघेल, बस्तर में TATA की अधिग्रहित जमीन किसानों को लौटाई जाएगी वापस

पुलिस ने बताया कि सोदान सिंह केवल गांव में हुए दो जाट भाइयों सचिन और गौरव की हत्या के मुख्य गवाह थे. इस मामले में सोदान सिंह के बेटे की शिकायत पर पुलिस ने हत्या का एफआईआर दर्ज किया है. पुलिस ने मामले में चार लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया है. इसमें उस नाबालिग लड़की के दो भाई भी शामिल हैं, जिसने सोदान सिंह पर यौन शोषण का आरोप लगाया था. 

मुजफ्फरनगर के एसएसपी सुधीर कुमार सिंह के अनुसार, सोदान सिंह की हत्या के संबंध में उन्हें कोई साक्ष्य नहीं मिले. सुधीर कुमार सिंह ने बताया कि सोदान सिंह मुजफ्फरनगर दंगों के मुख्य गवाह थे और उनका बयान दर्ज था. वह ना सिर्फ दंगे में आरोपी भी थे बल्कि उनके खिलाफ भी मामले विचाराधीन थे.

पढ़ें- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर उद्धव ठाकरे ने किया करारा हमला, बोले- आजकल तो चौकीदार ही चोर है..

बता दें कि साल 2013 में सचिन और गौरव की हत्या के बाद पूरे मुजफ्फरनगर जिले में दंगा भड़क गया था. इस दंगे में 62 लोग मारे गए थे. जबकि पचास हजार से ज्यादा लोग बेघर हो गए थे. 

First published: 25 December 2018, 12:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी