Home » इंडिया » Before Jayalalitha death, parti ordered coffin for him
 

रहस्य: जयललिता की मौत से एक दिन पहले खरीदा गया ताबूत !

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 December 2016, 12:34 IST

तमिलनाडु की दिवंगत पूर्व मुख्यमंत्री जे जयललिता की मृत्यु के बाद रोज-रोज चौंकाने वाले खुलासे हो रहे हैं. ताजा मामला यह सामने आ रहा है कि जयललिता की मौत के ‌एक दिन पहले ही पार्टी की ओर से उनके लिए ताबूत खरीद लिया गया था.

जयललिता चेन्नई के अपोलो अस्पताल में भर्ती थीं, जहां 5 दिसंबर की रात 11.30 बजे उनकी मृत्यु हो गई. मृत्यु के एक दिन पूर्व रविवार को तकरीबन 3 बजे दोपहर में जयललिता को दिल का दौरा पड़ा जिसके बाद डॉक्टरों ने सर्जरी के लिए उन्हें स्पेशल वॉर्ड से सीसीयू में शिफ्ट कर किया.

जयललिता की मृत्यु के पहले ही जिस तरह से उनके अंतिम संस्कार की तैयारियां की गई थीं. उससे संभावना जताई जा रही है कि वो आधिकारिक घोषणा के एक दिन पहले ही मर चुकी थीं.

इस मामले में अंग्रेजी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया ने खबर छापी है, जिसके मुताबिक जयललिता की पार्टी एआईडीमके ने उनके अंतिम संस्कार की तैयारियां रविवार को ही शुरू कर दी थीं.

बताया जा रहा है कि शीशे के जिस ताबूत में जयललिता को मरीना बीच पर दफनाया गया, उस ताबूत का ऑर्डर पार्टी ने रविवार को ही दे दिया था.

ताबूत के ऑर्डर के अलावा पार्टी ने रविवार को ही राजाजी हॉल की साफ-सफाई का आदेश दिया था. राजाजी हॉल वही स्थान है, जहां जयललिता के पार्थिव शरीर को जनता के अंतिम दर्शनों के लिए रखा गया था.

बताया जा रहा है कि अपोलो अस्पताल में जयललिता के पास केवल उनकी करीबी सहयोगी शशिकला नटराजन और पूर्व नौकरशाह शीला बालाकृष्‍णन को ही जाने की इजाजत थी. उनके अलावा अन्य किसी को जयललिता के पास जाने या उन्हें देखने की इजाजत नहीं थी.

सूत्रों के मुताबिक सोमवार की देर शाम में एआईडीएमके के पार्टी मुख्यालय में सभी एमएलए की बैठक बुलाई गई, लेकिन उस बैठक में तत्कालीन कार्यवाहक और वर्तमान सीएम ओ पन्नीरसेल्वम समेत चार बड़े मंत्री नहीं आए.

ये सभी वरिष्ठ नेता उस वक्त अस्पताल में मौजूद थे, जहां उन्हें जयललिता की गंभीर स्थिति के बारे में जानकारी दी गई.

इस बीच पार्टी के एमएलए एआईडीएमके कार्यालय में ही मौजूद थे, जहां उन्हें पार्टी ऑफिस छोड़कर जाने की अनुमति नहीं थी. रात 11 बजे के करीब ओ पन्नीरसेल्लवम समेत चारों मंत्री पार्टी मुख्यालय पहुंचे.

तभी अपोलो अस्पताल ने रात 11.30 बजे औपचारिक बयान जारी करके जयललिता के निधन की घोषणा कर दी. उसके बाद पार्टी मुख्यालय में सभी एमएलए के सामने पन्‍नीरसेल्‍वम को तामिलनाडु के अगले मुख्यमंत्री बनाये जाने की भी आधिकारिक घोषणा कर दी गई.

उसके बाद पार्टी मुख्यालय पर पहले से खड़ी बस से सभी एमएलए को राजभवन ले जाया गया. राजभवन पहले से ही नई सरकार के शपथग्रहण कार्यक्रम के लिए तैयार था, जहां पन्नीरसेल्वम को राज्यपाल विद्यासागर राव ने  मुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाई.

First published: 10 December 2016, 12:34 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी