Home » इंडिया » Nabam Tuki: We have asked the Governor for 10 days time for floor test
 

अरुणाचल: बहुमत परीक्षण के लिए सीएम तुकी ने मांगी 10 दिन की मोहलत

कैच ब्यूरो | Updated on: 15 July 2016, 16:09 IST
(एएनआई)

अरुणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री नबाम तुकी ने बहुमत परीक्षण के लिए 10 दिन की मोहलत मांगी है. इससे पहले राज्यपाल ज्योति प्रसाद राजखोवा ने उन्हें बहुमत साबित करने के लिए 16 जुलाई की समय सीमा निर्धारित की थी.

राज्यपाल से मुलाकात के बाद बाहर निकलते हुए नबाम तुकी ने कहा, "हमने बहुमत परीक्षण के लिए 10 दिन का वक्त मांगा है. अब हमें राज्यपाल के जवाब का इंतजार है."

कैबिनेट की बैठक में मंथन

वहीं अरुणाचल प्रदेश में सियासी उठा-पठक के बीच सीएम तुकी ने शुक्रवार को दोपहर 12 बजे कैबिनेट की बैठक बुलाई. इस दौरान राज्य के वर्तमान राजनैतिक हालात पर चर्चा हुई.

पढ़ें: कांग्रेस सुप्रीम कोर्ट में जीतकर भी अरुणाचल प्रदेश को लेकर 'आशंकित'

कैबिनेट की बैठक के बाद नबाम तुकी ने गवर्नर जेपी राजखोवा से मुलाकात की और विधानसभा में बहुमत साबित करने के लिए 10 दिन का और समय मांगा. राज्यपाल ने नबाम तुकी को शनिवार को विधानसभा में बहुमत साबित करने को कहा था. 

इस बीच सूत्रों की मानें तो कांग्रेस राज्यपाल के शनिवार को बहुमत साबित करने के फैसले से नाखुश है. कांग्रेस ने गवर्नर के इस फैसले को राजनीति से प्रेरित बताया है. 

'अविश्वास प्रस्ताव के बगैर शक्ति परीक्षण क्यों'

सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद से कांग्रेस ने राज्यपाल की भूमिका को लेकर सवाल उठाए हैं. कांग्रेस ने  राज्यपाल के इस्तीफे की भी मांग की थी.

कांग्रेस का कहना है कि गवर्नर तभी सदन में बहुमत साबित करने के लिए कह सकता है, जब कोई अविश्वास प्रस्ताव लाया गया हो. लेकिन अरुणाचल विधानसभा में ऐसा कोई प्रस्ताव नहीं पेश किया गया है.

कांग्रेस की तरफ से यह भी कहा गया है कि सरकारिया आयोग और दूसरे कमीशनों ने भी यह कहा है कि किसी भी सरकार को बहुमत साबित करने के लिए 30 दिन का वक्त दिया जाना चाहिए.

पढ़ें: घटनाक्रम: अरुणाचल प्रदेश में कब-कब क्या हुआ?

बुधवार को सुप्रीम कोर्ट ने अरुणाचल प्रदेश में नबाम तुकी की सरकार को बहाल करने का आदेश दिया था. कोर्ट ने 15 दिसंबर 2015 की स्थिति को बहाल करते हुए राज्यपाल के फैसलों को असंवैधानिक करार दिया था. इसके अलावा नौ दिसंबर के नोटिफिकेशन को भी सुप्रीम कोर्ट ने रद्द कर दिया था.

First published: 15 July 2016, 16:09 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी