Home » इंडिया » NaMo Brigade founder arrested for murder of Mangaluru RTI activist
 

कर्नाटक: हत्या के आरोप में 'नमो ब्रिगेड' का संस्थापक गिरफ्तार

कैच ब्यूरो | Updated on: 27 June 2016, 16:12 IST
(फाइल फोटो)

कर्नाटक के मेंगलुरु में नमो ब्रिगेड के संस्थापक नरेश शेनॉय को पुलिस ने गिरफ्तार किया है. शेनॉय पर एक आरटीआई कार्यकर्ता की हत्या का आरोप है.

अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक 39 साल का शेनॉय इस साल 21 मार्च को हुई आरटीआई एक्टिविस्ट विनायक बलिगा की हत्या का मुख्य आरोपी हैं.

तीन महीने से था फरार

इसके अलावा 6 और आरोपियों के खिलाफ पुलिस ने 770 पेज की चार्जशीट बनाई है. लगातार तीन महीने से पुलिस शेनॉय का पीछा कर रही थी. शेनॉय की तलाश में पुलिस ने जम्मू-कश्मीर, गोरखपुर, लखनऊ सहित नेपाल सीमा से लगे कई गांवों तक की खाक छानी.

मेंगलुरु के हेजामडी इलाके से शेनॉय को गिरफ्तार कर लिया गया. पुलिस के इस दावे से अलग चर्चा है कि पुलिस ने उसे चार्जशीट फाइल करने से पहले ही गिरफ्तार कर लिया था.

आरटीआई कार्यकर्ता की हत्या

पुलिस के मुताबिक नमो ब्रिगेड के संस्थापक नरेश शेनॉय के मकान से महज 75 मीटर की दूरी पर 51 साल के विनायक पांडुरंग बलिगा की हत्या कर दी गई थी.

नरेश शेनॉय को कर्नाटक में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का करीबी माना जाता है. हत्याकांड की जांच के दौरान जिनके नाम सामने आए हैं, उनके शेनॉय से भी संबंध हैं.

जांच के दौरान पुलिस ने शेनॉय के मेंगलुरु स्थित आवास पर छापेमारी भी की थी. इसके बाद से शेनॉय लगातार फरार रहा.

9 करोड़ के घोटाले का खुलासा

विनायक बलिगा ने एक आरटीआई के जरिए वेंकटरमन मंदिर में कथित रूप से हुए करीब 9 करोड़ रुपए के घोटाले का खुलासा किया था. बाद में इस मुद्दे ने एक बड़े विवाद का रूप ले लिया था.

बलिगा ने अलग-अलग मुद्दों पर करीब 92 आरटीआई आवेदन किए थे. जिले में अवैध रूप से भूमि हथियाने और अवैध निर्माणों का खुलासा भी उन्होंने किया था.

पुलिस को शक है कि वेंकटरमन मंदिर में हुए घोटाले का खुलासा करने की वजह से ही उनकी हत्या की गई. पुलिस के मुताबिक यह मंदिर सारस्वत गौड़ ब्राह्मण समुदाय से जुड़ा है और नरेश शेनॉय भी इसके प्रबंधन अधिकारियों में शामिल थे.

विनायक की शादी नहीं हुई थी. वे परिजनों और दो बहनों के साथ मैंगलोर के कोडिबियाल इलाके में रहते थे. जब उनकी हत्या हुई, तब वह वेंकटरमन मंदिर ही जा रहे थे.

First published: 27 June 2016, 16:12 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी