Home » इंडिया » Narendra Dabholkar murder case: Dr. Virendra Tawde arrested by CBI from Mumbai
 

नरेंद्र दाभोलकर हत्याकांड में तीन साल बाद पहली गिरफ्तारी

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 June 2016, 10:03 IST
(पीटीआई)

सामाजिक कार्यकर्ता नरेंद्र दाभोलकर हत्याकांड में केंद्रीय जांच ब्यूरो ने तीन साल के बाद पहली गिरफ्तारी की है. सीबीआई ने सनातन संस्था से जुड़े वीरेंद्र तावड़े को पनवेल इलाके से गिरफ़्तार किया है.

डॉक्टर वीरेंद्र तावड़े हिंदू जनजागृति समिति से भी जुड़े हैं. पुणे में 20 अगस्त 2013 को दो अज्ञात लोगों ने नरेंद्र दाभोलकर की गोली मारकर हत्या कर दी थी. जिसके बाद से यह पहली गिरफ्तारी है. 

कठघरे में सनातन संस्था

नरेंद्र दाभोलकर की हत्या का शक कुछ दक्षिणपंथी समूहों और कार्यकर्ताओं पर है. उनकी हत्या के मामले में कोई सुराग नहीं मिल पाने से महाराष्ट्र पुलिस की कड़ी आलोचना की जा रही थी.

महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के बाद बीजेपी सरकार ने इस मामले की जांच सीबीआई को सौंप दी थी. इस मामले में कई छापे मारे गए, पूछताछ हुई, लेकिन कोई गिरफ्तारी नहीं हो पाई थी. वीरेंद्र तावड़े के घर पर इसी महीने सीबीआई ने छापे भी मारे थे.

अंधविश्वास के खिलाफ मुहिम

सामाजिक कार्यकर्ता नरेंद्र दाभोलकर महाराष्ट्र में लंबे समय से काला जादू और अंधविश्वास के ख़िलाफ़ लड़ाई लड़ रहे थे. इससे पहले 2009 में गोवा के शहर मरगांव में हुए ब्लास्ट में भी वीरेंद्र तावड़े अभियुक्त हैं.

सीबीआई ने कई दिनों तक वीरेंद्र तावड़े से पूछताछ की, जिसके बाद शुक्रवार की रात तावड़े की गिरफ्तारी की गई है. बताया जा रहा है कि हत्या से जुड़े सबूत काफी धुंधले थे, जिसकी वजह से मामले में गिरफ्तारी भी विलंब से हुई.

दाभोलकर हत्याकांड को लेकर समाजिक कार्यकर्ताओं ने इंसाफ के लिए लंबे अरसे से मुहिम छेड़ रखी है. तीन साल पहले नरेंद्र दाभोलकर की हत्या के बाद सनातन संस्था पर शक की सुई उठी थी.

First published: 11 June 2016, 10:03 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी