Home » इंडिया » Narendra Modi can be prime minister of india till 2029 says report
 

'2019 ही नहीं साल 2029 तक प्रधानमंत्री रहेंगे नरेंद्र मोदी'

कैच ब्यूरो | Updated on: 20 March 2018, 15:15 IST

वैश्विक संस्था ब्लूमबर्ग मीडिया समूह ने दुनिया के 16 देशों के नेताओं के शासन पर एक आकलन किया है. इसमें अनुमान लगाया गया है कि नरेंद्र मोदी 2029 तक प्रधानमंत्री बने रह सकते हैं. आकलन के अनुसार, ज्यादा दिनों तक देश की सत्ता पर शासन करने वाले नेताओं में वह छठे स्थान पर हैंं.

ब्लूमबर्ग के अनुमान के अनुसार, पीएम मोदी न सिर्फ साल 2019 में बल्कि साल 2024 में भी जीतकर सत्ता में वापसी कर सकते हैं. ब्लूमबर्ग की इस सूची में सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान (32 वर्ष) पहले स्थान पर हैं. ब्लूमबर्ग के अनुसार क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान बिना सुल्तान बने सऊदी अरब पर प्रभावी शासन कर रहे हैं. वह अगले 50 वर्षों तक शासन कर सकते हैं.

 

वहीं उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन (33 वर्ष) की बात करते हुए ब्लूमबर्ग की सूची में कहा गया है कि यदि अमेरिका से युद्ध की नौबत नहीं आती है तो उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन कई दशकों तक वहां शासन करेंगे।

इस सूची में चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग (64) तीसरे स्थान पर हैं. कहा गया कि कार्यकाल सीमा खत्म करने के बाद वह कुछ दशक और शासन कर सकते हैं.

इस सूची में व्लादिमीर पुतिन (65) चौथे स्थान पर हैं. हाल ही में उन्होंने चौथी बार रूस की सत्ता हासिल की है. हालांकि कार्यकाल की सीमा के चलते 2024 में उन्हें पद त्यागना पड़ सकता है.

वहींं 2016 में अमेरिका के राष्ट्रपति बने डोनाल्ड ट्रंप के कार्यकाल की बात करते हुए ब्लूमबर्ग ने कहा कि उनका कार्यकाल विवादित रहा है. महाभियोग की बातें उठीं. उनके इसी कार्यकाल को पूरा करने पर संदेह है.

गौरतलब है कि वैश्विक क्रम को दो चीजों से आंका जाता है. पहला आर्थिक ताकत और दूसरी सैन्य क्षमता. इन दोनों मापदंडों पर अमेरिका नंबर वन है. चीन दूसरे स्थान की ओर बढ़ रहा है, लेकिन जब अहम वैश्विक मुद्दों जैसे जलवायु परिवर्तन, गरीबी से लड़ने और शांति कायम करने की बात आती है तो यह देखना जरूरी हो जाता है कि दुनिया के कौन से कद्दावर नेता इससे निपटने में सक्षम होंगे.

बता दें कि 2014 में पीएम बनने वाले नरेंद्र मोदी का कद इतना बड़ा हो गया है कि कोई भी समकक्ष नेता उनकी बराबरी करते हुए नहीं दिख रहा है. उनके करिश्माई व्यक्तित्व के आगे विपक्ष पूरी तरह बिखर चुका है. लोगों के बीच उनकी गजब की लोकप्रियता को देखते हुए उम्मीद है कि साल 2019 में भी उनके नेतृत्व में राजग की सरकार बनेगी.

गौरतलब है कि वैश्विक क्रम को दो चीजों से आंका जाता है. पहला आर्थिक ताकत और दूसरी सैन्य क्षमता. इन दोनों मापदंडों पर अमेरिका नंबर वन है. चीन दूसरे स्थान की ओर बढ़ रहा है, लेकिन जब अहम वैश्विक मुद्दों जैसे जलवायु परिवर्तन, गरीबी से लड़ने और शांति कायम करने की बात आती है तो यह देखना जरूरी हो जाता है कि दुनिया के कौन से कद्दावर नेता इससे निपटने में सक्षम होंगे.

पढ़ें- नीतीश का BJP पर निशाना- समाज को बांटने वालों को नहीं करूंगा बर्दाश्त

बता दें कि साल 2014 में पीएम बनने वाले नरेंद्र मोदी का कद इतना बड़ा हो गया है कि कोई भी समकक्ष नेता उनकी बराबरी करते हुए नहीं दिख रहा है. उनके करिश्माई व्यक्तित्व के आगे विपक्ष पूरी तरह बिखर चुका है. लोगों के बीच उनकी गजब की लोकप्रियता को देखते हुए उम्मीद है कि 2019 में भी उनके नेतृत्व में राजग की सरकार बनेगी.

First published: 20 March 2018, 14:59 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी