Home » इंडिया » Narendra Modi Has Different Names
 

जुमला कुमार से शहंशाह तक: नरेन्द्र मोदी के कई नाम

आदित्य मेनन | Updated on: 8 June 2016, 17:50 IST
QUICK PILL
  • अपने दामाद राबर्ट वाड्रा पर लगे अरोपों का जवाब देते हुए सोनिया गांधी ने मोदी के लिए कहा कि \'वह सिर्फ प्रधानमंत्री है, कोई शंहशाह नहीं.
  • लम्बे समय से मोदी को न सिर्फ उनके विरोधियों बल्कि समर्थकों द्वारा भी कई नामों से सुशोभित किया जा रहा है. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने तो ट्विटर पर मोदी को कायर व मानसिक रोगी तक बता दिया था.

अपने दामाद राबर्ट वाड्रा पर लगे अरोपों का जवाब देते हुए सोनिया गांधी ने मोदी के लिए कहा कि 'वह सिर्फ प्रधानमंत्री है, कोई शंहशाह नहीं.

लम्बे समय से मोदी को न सिर्फ उनके विरोधियों बल्कि समर्थकों द्वारा भी कई नामों से सुशोभित किया जा रहा है. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने तो ट्विटर पर मोदी को कायर व मानसिक रोगी तक बता दिया था.

प्रचार में सिद्धहस्त मोदी ने बड़ी चतुराई से इन नामों को अपनी लोकप्रियता बढ़ाने में इस्तेमाल किया. नकारात्मतक विशेषणों जैसे 'मौत का सौदागर' व 'चायवाला' के साथ ही सकारात्मक विशेषणों जैसे 'हिन्दू हृदय सम्राट' ने मोदी के आभामंडल को और बढ़ा दिया. मोदी के अब तक के सफर में कुछ अच्छे, बुरे नामों पर एक नजर:

शहंशाह

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी द्वारा दी गई यह सबसे ताजा उपाधि है. कहने की आवश्यकता नहीं है कि इस उपाधि ने भाजपा समर्थकों को क्रोधित कर दिया, उन्होंने इसे अपमानजनक बताया. हिंदू हृदय सम्राट के समर्थकों को जिस बात ने क्रोधित किया वह सिर्फ यही नहीं थी कि मोदी की तुलना राजा से की बल्कि उसके लिए इस्लामिक नाम शहंशाह काम में लिया गया.

सोनिया गांधी के लिए यह एक तरह से बदला लेने जैसा था क्योंकि मोदी यूपीए सरकार को दिल्ली सल्तनत व राहुल गांधी को शहजादा कहते रहे हैं. हिन्दू-मुस्लिम की बहस में पड़ने की बजाय हमें शंहशाह को फिल्मी चुटकी के संदर्भ में लेना चाहिए.

मौत का सौदागर

यह पहली बार नहीं है जब सोनिया गांधी ने उन्हें कोई उपाधि दी है. 2007 के गुजरात चुनाव प्रचार के दौरान मौत के सौदागर की टिप्पणी को कौन भूल सकता है. गुजरात दंगों के संदर्भ में गांधी का यह बहुत आक्रामक हमला था लेकिन मोदी ने इसको गुजरात की अस्मिता से जोड़कर अपने पक्ष में भुना लिया.

फेकूं:

मोदी को विरोधियों ने जो सबसे अपमानजक उपाधि दी वह है 'फेकूं'. ऐसा माना जाता है भाजपा सोशल मीडिया द्वारा राहुल गांधी को 'पप्पू' कहे जाने पर कांग्रेस समर्थकों ने बदले में यह उपाधि मोदी को दी. मोदी द्वारा बड़े-बड़े दावे किए जाने पर 'फेकूं' की उपाधि दी गई. उदाहरण के लिए मोदी ने दावा किया कि महाराणा प्रताप के घोड़े चेतक की मां गुजराती थी व भारतीय सीमा में चीनी सेनाओं की गतिविधि वह गूगल मैप के जरिए पता लगा सकते हैं.

जुमला बाबू

अगर फेकूं मोदी को बढ़ चढ़कर दावे करने के कारण मिला तो बिहार के मुख्यमंत्री नीतिश कुमार ने झूठे वादे करने पर मोदी को 'जुमला बाबू' की उपाधि दे दी. हालांकि मोदी इसके लिए अपने दाहिने हाथ भाजपा अध्यक्ष अमित शाह को दोष दे सकते हैं, जिन्होंने काले धन वापसी के मोदी के वादे को चुनावी जुमला बताकर उसे गंभीरता से नहीं लेने को कहा था.

नीतिश के प्रचार प्रमुख प्रशांत किशोर जो मोदी के पूर्व में सहयोगी रह चुके हैं ने मोदी को कार्टून कैरेक्टर जुमला बाबू के रूप में पेश किया जो बिहार के भोले-भाले मतदाताओं की पहुंच से हमेशा दूर रहेंगे. 2014 के चुनाव प्रचार के दौरान प.बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने इससे मिलती-जुलती उपाधि का प्रयोग किया, दंगा बाबू.

हिंदू हृदय सम्राट

बहुत से भाजपा समर्थकों के लिए मोदी हिंदू हृदय सम्राट रहेंगे जिन्होंने मुस्लिमों को 2002 में सबक सिखाया था. 2014 में प्रधानमंत्री बनने के बाद मोदी हिंदू हृदय सम्राट से बढ़कर देवता की उपाधि पा चुके हैं. उनके 65वें जन्मदिन पर उन्हें विष्णु का अवतार बताया गया. केन्द्रीय मंत्री वैंकेया नायडू ने उन्हें भारत के लिए भगवान का आशीर्वाद बताया.

सूरत में पिछले वर्ष की गणेश पूजा में एक बड़े गणपति मंडप में मोदी को भगवान गणेश के बराबर स्थान दिया गया था. उमा भारती ने और आगे जाते हुए मोदी, अमित शाह और जेटली को ब्रह्मा, विष्णु और महेश बता दिया. हालांकि वित्त मंत्री जेटली की भगवान शिव (जो कि विनाशक हैं) से तुलना हमारी अर्थव्यवस्था के लिए अच्छा शगुन नहीं है.

उन लोगों को जो प्रधानमंत्री को विष्णु का अवतार बताते हैं उनको वरिष्ठ वकील राम जेठमलानी का यह कहना कि वे 'पीएम के धोखे के शिकार हैं' शायद रास नहीं आए.

छोटे सरदार

जब मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री थे, उन दिनों में उनके समर्थक प्यार से उन्हें छोटे सरदार बुलाया करते थे. वे उन्हें सरदार पटेल के वारिस के रूप में देखते थे. मोदी ने भी सदार पटेल की विरासत को बढ़ाने में कोई कसर नहीं छोड़ी. परंतु मोदी के प्रतिद्वंद्वी कांग्रेस नेता शंकर सिंह वाघेला का कहना है कि 'मोदी छोटे सरदार नहीं, खोटे सरदार हैं.

First published: 8 June 2016, 17:50 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी