Home » इंडिया » Narendra modi latest article in time magazine united india lok sabha election result
 

TIME मैगजीन के बदले सुर, PM मोदी को पहले लिखा था विभाजनकारी, अब बताया भारत को जोड़ने वाला

कैच ब्यूरो | Updated on: 29 May 2019, 13:11 IST

दुनिया की मशहूर और बहुप्रतिष्ठित मैग्जीन ने लोकसभा चुनाव के अंतिम दौर 10 मई को प्रधानमंत्री मोदी के लिए ‘डिवाइडर-इन-चीफ’ शब्द का इस्तेमाल किया था. TIME के इस कवर पेज के बाद पूरी दुनिया में बवाल मच गया था. लेकिन चुनाव के रिजल्ट के 6 दिन बाद TIME बदल गया.

इस मैग्जीन ने एक और जहां मोदी के लिए ‘डिवाइडर-इन-चीफ’ शब्द का इस्तेमाल किया था. वहीं, मंगलवार को इस मैग्जीन ने नरेंद्र मोदी को देश को जोड़ने वाला नेता बताया. TIME ने लिखा, "जो दशकों में कोई प्रधानमंत्री नहीं कर पाया, वो नरेंद्र मोदी ने कर दिया."

TIME मैग्जीन की वेबसाइट पर एक ओपिनियन आर्टिकल छपा है. इस आर्टिकल का टाइटल, "Modi has united India like no Prime Minister in decades" यानी "दशकों में जो कोई अन्य प्रधानमंत्री नहीं कर सका, उस तरह नरेंद्र मोदी ने भारत को जोड़ दिया."

बता दें कि इस मैग्जीन में ये आर्टिकल मनोज लाडवा ने लिखा है, इन्होंने ही Narendra Modi For PM का कैंपेन 2014 में चलाया था.

Time मैग्जीन के इस लेख में भारत के लोकसभा चुनाव की ये सबसे बड़ी जीत बताई गई है. इस लेख के मुताबिक, पीएम नरेंद्र मोदी ने जातिवाद को खत्म किया है, जो काफी समय से भारत में चल रहा था. जातिवाद खत्म होने की वजह से ही लोगों ने एकजुट होकर मतदान किया. लेख के मुताबिक, मोदी ने पिछड़ी जाति को हक दिलाने में बड़ी कामयाबी हासिल की, लेकिन वेस्टर्न मीडिया अभी भी नरेंद्र मोदी को अगड़ी जाति के नेता के तौर पर प्रोजेक्ट कर रहा था.

इस लेख में नरेंद्र मोदी की काफी तारीफ की गई है. नरेंद्र मोदी की तारीफ करते हुए लिखा गया है कि मोदी किस तरह गरीब परिवार से होते हुए भी अपनी एक अलग पहचान बनाई. गरीब परिवार का होते हुए भी उन्होंने कैसे गांधी जैसे परिवार से राजनीतिक लड़ाई की. 

इस आर्टिकल में लिखा है कि मोदी ने किस तरह पिछले पांच साल में लोचनाओं का सामना करने के बावजूद देश को एक सूत्र में पिरो कर रखा है. ऐसा करने वाले ये पहले प्रधानमंत्री रहे, जिन्होंने देश को एक सूत्र में पिरो कर रखा.

इस देश में महिलाओं को पीरियड्स के दौरान मिलती हैं 3 दिन की छुट्टी, भारत के हैं ये हालात

First published: 29 May 2019, 13:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी