Home » इंडिया » National Emergency Helpline Number 112 will be available from January 1, 2017
 

नए साल से नेशनल हेल्पलाइन नंबर 112 पर करें इमरजेंसी कॉल

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 February 2017, 1:50 IST

दुनिया के कई मुल्कों की तरह नए साल से भारत सरकार देश में एकल इमरजेंसी नंबर 112 शुरू करने जा रही है. नेशनल हेल्पलाइन नंबर के तौर पर इस्तेमाल किए जाने वाले इस नंबर पर लोग सिमकार्ड, बैलेंस न होने या आउटगोइंग बार होने पर भी किसी इमरजेंसी सेवा के लिए कॉल मिला सकेंगे.

केंद्रीय दूरसंचार मंत्री रविशंकर प्रसाद ने समस्त आपातसेवाओं के लिए अमेरिका की ही तरह सिंगल हेल्पलाइन नंबर के प्रावधान को मंजूरी दे दी. इसके साथ ही सरकार ने सभी टेलीकॉम ऑपरेटरों से भी इमरजेंसी कॉल्स को 112 पर डायवर्ट करने के निर्देश दे दिए हैं. 

महिला सुरक्षाः हर मोबाइल में पैनिक बटन होगा जरूरी

हर सेवा के लिए एक ही नंबर के रूप में 112 की खासियत यह है कि इसपर कॉल करने के बाद ऑपरेटर शिकायतकर्ता की कॉल को संबंधित विभाग की ओर डायवर्ट कर देगा. इस सेवा के जरिये हर कॉलर की लोकेशन कंट्रोल रूम को मिल जाएगी और यह जानकारी तत्काल यूजर के पास के सहायता केंद्र को भेज दी जाएगी. 

Phonetapping

इस नंबर को पैनिक बटन सिस्टम में भी फीड किया जा सकेगा, जिससे कॉल न कर पाने की दशा में परेशानी से घिरे लोग एसएमएस के जरिये ही मदद पा सकेंगे. 

पढ़ेंः कार चलाते समय कभी न करें ये पांच गलतियां

सूत्रों के मुताबिक 1 जनवरी 2017 से शुरू होने वाले इस नंबर के बाद धीरे-धीरे सभी मौजूदा आपातकालीन नंबरों को समाप्त कर दिया जाएगा. यह सेवा मोबाइल और लैंडलाइन दोनों के लिए उपलब्ध रहेगी और बैलेंस न होने, आउटगोइंग बार होने पर भी लोग कॉल मिला सकेंगे.

गौरतलब है कि फिलहाल अलग-अलग आपातकालीन सेवाओं के लिए लोगों को अलग-अलग नंबर डायल करने पड़ते हैं. जैसे पुलिस के लिए 100, फायर ब्रिगेड के लिए 101, एंबुलेंस के लिए 102 और डिजास्टर मैनेजमेंट के लिए 108 पर कॉल कर संबंधित सेवा मांगी जा सकती है.

जानेंः 10 बातें जो विमान केेबिन क्रू नहीं बताते आपको

इसके अलावा 1 जनवरी 2017 से ही सभी मोबाइल फोन पर पैनिक बटन की सुविधा भी दी जानी है. इस सिंगल नंबर को पैनिक बटन से सिंक कर दिया जाएगा और यूजर बिना कॉल किए  भी सहायता पा सकेगा. 

First published: 8 May 2016, 5:56 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी