Home » इंडिया » NCP-Congress-Shiv Sena petition: Supreme Court reserves order for tomorrow 10.30 am
 

महाराष्ट्र: सुप्रीम कोर्ट ने एक दिन और टाला फैसला, अब कल सुबह 10:30 बजे आएगा फैसला

कैच ब्यूरो | Updated on: 25 November 2019, 12:36 IST

महाराष्ट्र का सियासी तूफान अभी खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है. पिछले दो दिनों से सुप्रीम कोर्ट में इस मामले की सुनवाई चल रही थी. अब सुप्रीम कोर्ट ने एक बार फिर मामले की सुनवाई 24 घंटे के लिए टाल दिया है. सुप्रीम कोर्ट ने सभी पक्षों की दलीलें सुनने के बाद मंगलवाल सुबह साढ़े दस बज तक के लिए फैसला टाल दिया है. 

सोमवार को सुबह साढ़े दस बजे सुप्रीम कोर्ट में शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी की याचिका पर सुनवाई शुरू हुई. करीब दो घंटे इस मामले पर अदालत में तीखी बहस हुई. इसके बाद कांग्रेस-एनसीपी और शिवसेना की तरफ से जल्द-ही-जल्द फ्लोर टेस्ट की मांग की गई. हालांकि दूसरी तरफ देवेंद्र  फडणवीस और अजित पवार की ओर से कुछ समय मांगा गया.

इससे पहले बीजेपी की तरफ से मुकुल रोहतगी ने सुप्रीम कोर्ट में कहा कि महाराष्ट्र के राज्यपाल ने फ्लोर टेस्ट के लिए 14 दिन का समय दिया है. मुकुल रोहतगी ने कहा कि विधानसभा में पहले प्रोटेम स्पीकर का चुनाव किया जाए, इसके बाद स्पीकर का चुनाव जरूरी है. रोहतगी ने कहा कि विपक्ष प्रोटेम स्पीकर से ही काम कराना चाहता है.

मुकुल रोहतगी ने सुप्रीम कोर्ट से कहा कि अगले सात दिन में विधानसभा में फ्लोर टेस्ट नहीं हो सकता है. उन्होंने कोर्ट से अपील की कि कल भी फ्लोर टेस्ट का ऑर्डर ना दिया जाए. इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने शिवसेना-एनसीपी-कांग्रेस की तरफ से पेश वकील अभिषेक मनु सिंघवी से पूछा कि आप क्या मांग रख रहे हैं?

सुप्रीम कोर्ट के सवाल पर सिंघवी ने कहा कि हम फ्लोर टेस्ट की मांग कर रहे हैं. जिस पर जस्टिस रमना ने कहा कि क्या आदेश देना है यह हमें पता है. दूसरी तरफ, बीजेपी के वकील मुकुल रोहतगी ने कहा कि विधानसभा की कुछ परंपरा है, जिसका पालन होना चाहिए. उन्होंने कहा कि पहले प्रोटेम स्पीकर फिर सदस्यों का शपथग्रहण, इसके बाद स्पीकर का चुनाव, राज्यपाल का अभिभाषण और फिर फ्लोर टेस्ट होना चाहिए.

महाराष्ट्र: क्या अकेले पड़ गए हैं अजित पवार? NCP का दावा- 54 में से 53 विधायक उनके साथ

महाराष्ट्र: सुबह 10:30 बजे आएगा 'सुप्रीम' फैसला, इससे पहले विधायकों को बचाने में जुटी सभी पार्टियां

First published: 25 November 2019, 12:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी