Home » इंडिया » negligence in latur water express, train stand on miraj
 

प्यासे लातूर को 3 दिन बाद ही मिल सकेगा पानी

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 April 2016, 17:14 IST

महाराष्ट्र के मराठवाड़ा क्षेत्र में सूखा प्रभावित लातूर जिले के लिए पानी ले जानी वाली 10 वैगन की ‘रेल नीर’ सोमवार को पश्चिमी महाराष्ट्र में सांगली जिले के मिराज बांध के पास पहुंच गई है.

महाराष्ट्र का मराठवाड़ा क्षेत्र इस साल के अब तक के सबसे भयंकर सूखे की मार झेल रहा है. लेकिन लातूर के लिए पानी अब भी दूर है, क्योंकि मिराज बांध से पानी को ट्रेन तक लाने के लिए करीब साढ़े चार किमी लाने के लिए पाइप लाइन ही नहीं डाली गई है.

इसमें योजना में कुल साढ़े चार करोड़ रुपए के खर्चे का अनुमान था और राज्य सरकार ने आज इस राशि को मंजूरी दे दी है.

मंजूरी मिलने के बाद आज इस दिशा में काम भी शुरू हो गया है, लेकिन प्रशासन का कहना है कि इस काम को पूरा करने में तीन दिन लगेंगे और उसके बाद ही यह ट्रेन लातूर के लिए रवाना हो पाएगी.

लातूर में जलापूर्ति के लिए रेलवे की यह विशेष ट्रेन राजस्थान के कोटा से मिराज पहुंची है. इस मामले में महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस ने कल कहा था कि महाराष्ट्र सरकार और भारतीय रेलवे विदर्भ और मराठवाड़ा के सूखा प्रभावित क्षेत्र में लोगों को राहत पहुंचाने के लिए दिन-रात एक किये हुए हैं.

केंद्र और महाराष्ट्र सरकार की योजना है कि 'रेल नीर' की सहायता से लातूर तक हर फेरी में 25 लाख लीटर पानी पहुंचाया जा सके.

वहीं सूखे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज हाई लेवल की आपात बैठक बुलाई और सूखा प्रभावित क्षेत्रों में सहायता को तेज किये जाने का भी निर्देश दिया है.

सूखे के कारण बुंदेलखंड, विदर्भ और मराठवाड़ा में स्थिति बहुत ही भयावह बन गई है. 

First published: 11 April 2016, 17:14 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी