Home » इंडिया » Nepal bycott BIMSTEC first military exercise, called his 3 officers back from pune
 

नेपाल ने किया भारत में होने वाले बिम्सटेक सैन्य अभ्यास का बहिष्कार, वापस बुलाए अपने अधिकारी

कैच ब्यूरो | Updated on: 9 September 2018, 8:40 IST

नेपाल ने भारत के पुणे में होने वाले बिम्सटेक सैन्य अभ्यास का बहिष्कार कर दिया है. इतना ही नहीं सैन्य अभ्यास की तैयारियों के चलते नेपाल से पुणे आ चुके तीन सैन्य अधिकारियों को भी नेपाल ने वापस बुला लिया है. एक राजनीतिक विवाद के चलते नेपाली सेना ने भारत में होने वाले सैन्य अभ्यास में हिस्सा न लेने का फैसले लिया है.

इस मामले में मीडिया में आई ख़बरों के अनुसार नेपाली सेना के भारत में आयोजित होने वाले बिम्सटेक सैन्य अभ्यास को लेकर देश में राजनीतिक विवाद उत्पन्न हो गया जिसके बाद नेपाल ने इस सैन्य अभ्यास के बहिष्कार का फैसला किया.

इस बारे में नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली ने राष्ट्रीय रक्षा बल से अभ्यास में हिस्सा न लेने के लिए कहा. प्रधानमंत्री के इस निर्देश के बाद नेपाल की सेना ने भारत में आयोजित होने वाले इस पहले बिम्सटेक सैन्य अभ्यास में शामिल होने से मना कर दिया.

मीडिया की मानें तो ये फैसला नेपाल की तरफ से अंतिम वक़्त में लिए गया जबकि नेपाल की सेना इस अभ्यास हेतु पुणे के लिए रवाना होने वाली थी. गौरतलब है कि ये फैसला नेपाल में सत्ताधारी कम्युनिस्ट पार्टी के साथ अन्य दलों की आलोचना के बाद लिया गया है.

क्या है बिम्सटेक

बे ऑफ बंगाल इनीशिएटिव फॉर मल्टी-सेक्टोरल टेक्निकल एंड इकोनॉमिक को-ऑपरेशन (बिम्सटेक) एक क्षेत्रीय संगठन हैं, इस संगठन में भारत, म्यांमार, श्रीलंका, थाइलैंड, भूटान और नेपाल सदस्य हैं.

इस सैन्य अभ्यास के लिए इन सातों देशों की थल सेनाओं ने 30-30 जवानों को भेजने का निर्णय लिया था. ये सैन्य अभ्यास 6 दिन का होना तय हुआ था. नेपाली अखबार काठमांडू पोस्ट ने ओली के प्रेस सलाहकार कुंदन आर्याल के हवाले से बताया कि सरकार ने नेपाली सेना को निर्देश दिया कि वो इस अभ्यास में हिस्सा नहीं ले.

बिमस्टेक सम्मेलन: पीएम मोदी नेपाल पहुंचे, NRC मुद्दे पर बांग्लादेश से हो सकती है बात

इस मामले में सेना के एक वरिष्ठ सैन्य अधिकारी ने बताया कि अभ्यास रद्द करने के लिए उन्हें कोई औपचारिक निर्देश नहीं मिला है. लेकिन पुणे के लिए रवाना हो रहे जवानों को रोक दिया गया है और पुणे पहुंच चुके तीन अधिकारी भी वापस बुला लिए गए हैं.

 

First published: 9 September 2018, 8:30 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी