Home » इंडिया » NIA arrested 10th terrorist of Al Queda who was part of group planning to trigger attack in India
 

NIA के हत्थे चढ़ा अल-कायदा का दसवां आतंकवादी, भारत में बड़े हमले की बना रहे थे योजना

कैच ब्यूरो | Updated on: 27 September 2020, 7:56 IST

Al-Qaeda terrorist attested: भारत (India) में बड़े आतंकी हमले (Terrorist Attack) की साजिश रच रहे अल-कायदा (Al-Qaeda) को एक और आतंकवादी (Terrorist) को राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) ने गिरफ्तार कर लिया. इससे पहले एनआईए (National Investigation Agency) ने अल-कायदा से संबंध रखने वाले नौ आतंकवादियों को पश्चिम बंगाल (West Bengal) और केरल (Kerala) से गिरफ्तार (Arrest) किया था. शनिवार को पश्चिम बंगाल से गिरफ्तार किए गए आतंकवादी का नाम समीम अंसारी (Samim Ansari) है और वह अल-कायदा के लिए काम किया करता है.

एनआईए अधिकारियों के मुताबिक, मुर्शिदाबाद (Murshidabad) के जलंगी पुलिस स्टेशन (Jalangi Police Station) के अंतर्गत आने वाले नंदपारा कालीगंज (Nandpara Keliganj) निवासी समीम अंसारी को मुर्शिदाबाद न्यायिक अधिकारी (CJM) के समक्ष पेश किया गया. उसके बाद उसे ट्रांजिट रिमांड पर ले लिया गया है. अब इसके बाद एनआईए समीम अंसारी को दिल्ली में एनआईए की विशेष अदालत के सामने पेश करेगी. जहां उससे पूछताछ की जाएगी. बता दें कि इससे पहले एनआईए ने केरल के एनार्कुलम जिले तथा पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद जिले के विभिन्न जगहों से 19 सितंबर को अल-कायदा के नौ संदिग्ध आतंकवादियों को गिरफ्तार किया था.


दिल्ली में विकसित देशों की तर्ज पर 24 घंटे आएगा साफ पानी, नहीं होगा निजीकरण - केजरीवाल

प्राप्त जानकारी के मुताबिक, आरोपी समीम अल-कायदा मॉड्यूल का 10वां आतंकी है. बताया जा रहा है कि गिरफ्तार किए गए संदिग्धों का संपर्क पाकिस्तान से है और इनकी नई दिल्ली समेत देश के कई सरकारी संस्थानों को निशाना बनाने की योजना थी. राष्ट्रीय जांच एजेंसी के अधिकारियों के मुताबिक, संदिग्ध आतंकवादियों से बड़ी मात्रा में हथियार, देश-निर्मित आग्नेयास्त्र, स्थानीय स्तर पर निर्मित शरीर कवच, जिहादी साहित्य और विस्फोटक बनाने के लिए उपयोग किए जाने वाला सामान भी बरामद हुआ है. वे दिल्ली-एनसीआर, कोच्चि और मुंबई सहित कई स्थानों पर हमले की योजना बना रहे थे.

Bihar Election 2020: जल्द JDU में शामिल हो सकते हैं पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे, सेवा से लिया था वीआरएस

बता दें कि पिछले हफ्ते नौ संदिग्धों की गिरफ्तारी के बाद जारी एक बयान में एनआईए ने कहा था कि, “प्रारंभिक जांच के मुताबिक, इन व्यक्तियों को सोशल मीडिया पर पाकिस्तान स्थित अल-कायदा आतंकवादियों द्वारा कट्टरपंथी बनाया गया था और दिल्ली समेत कई स्थानों पर हमले करने के लिए प्रेरित किया गया था, इस उद्देश्य के लिए मॉड्यूल सक्रिय रूप से धन उगाने में लगा हुआ था और गिरोह के कुछ सदस्य हथियार और गोला-बारूद खरीदने के लिए नई दिल्ली की यात्रा करने की योजना बना रहे थे.”

Bihar Elections 2020: पूर्व DGP गुप्तेश्वर पांडे ने CM नीतीश से की मुलाकात, JDU में हो सकते हैं शामिल

Bihar Elections 2020: BJP ने पार्टी संगठन में किया बड़ा बदलाव, कई नए चेहरों को मिली बड़ी जिम्मेदारी

बता दें कि अल--कायदा दुनिया का पहला ऐसा संगठन है जिसने अपने आतंकवादियों को हाईटेक और टेकसेवी बनाया. उसके बाद आतंक की दुनिया में ऐसे उच्च शिक्षित पुरुषों और महिलाओं को आतंकवाद फैलाने में लगाया जिनसे उम्मीद नहीं की जाती थी कि इतने पढ़े-लिखे और उच्च शिक्षा प्राप्त पेशेवर इस तरह का काम कर सकते हैं. अल-कायदा ने आत्मघाती बनने का रास्ता भी चुना. अल कायदा का गठन अमेरिका में 11 सितंबर 2001 को न्यूयॉर्क के ट्‍विन टॉवर को धराशायी करने वाले आत्मघाती हमलावरों को तैयार के लिए किया गया था.

UNGC में पीएम मोदी ने साधा चीन पर निशाना, कहा- हम विकास के नाम पर पड़ोसियों को मजबूर नहीं करते

इस घटना को अंजाम देने वाले आतंकी ओसामा बिन लादेन ने साल 1988 में इस आतंकी संगठन को बनाया. अमेरिकी सील कमांडरों ने साल 2011 में ओसामा बिन लादेन को पाकिस्तान के एबटाबाद में मार गिराया था. उसके बाद ये संगठन कमजोर पड़ गया, लेकिन हाल के दिनों में भारत में पकड़े गए इस संगठन के आतंकियों से ये पता चलता है कि अल-कायदा दोबारा से नफरत की दुनिया में सक्रिय हो रहा है.

Akali Dal quits NDA: कृषि बिल के विरोध में अकाली दल ने NDA से तोड़ा नाता, ऐसा रहा BJP के साथ 23 साल लंबा सफर

First published: 27 September 2020, 7:56 IST
 
अगली कहानी