Home » इंडिया » NIA investigation reveals that Hafiz Saeed Calls kashmiri separatist aasiya her Sister
 

NIA का दावा - कश्मीरी अलगाववादी आसिया को बहन बुलाता है हाफ़िज़ सईद

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 July 2018, 8:10 IST

कश्मीर की अलगाववादी संगठन दुख्तारन-ए-मिल्लत की मुखिया आसिया अंद्राबी को दिल्ली ले जाने के बाद से उससे पूछताछ जारी है. आसिया को गिरफ्तार करके नेशनल इन्वेस्टीगेशन एजेंसी के हेडक्वार्टर दिल्ली में लाया गया है. आसिया से लश्कर-ए-तैयबा और उसके बीच के संबंधों को लेकर पूछताछ जारी है.

NIA के अधिकारी हाफ़िज़ सईद और आसिया के कनेक्शन के बारे में जानकारी जुटाने में जुटे हैं. गौरतलब है कि आसिया पर बुरहान वानी की मौत के बाद कश्मीर घाटी में छात्रों के विरोध प्रदर्शन को उकसाने का आरोप है. आसिया को श्रीनगर जेल से पूछताछ के लिए दिल्ली लाया गया. शुक्रवार को आसिया को NIA ने 10 दिन की हिरासत में लिया ताकि उससे पूछताछ की जा सके.

ये भी पढ़ें- पाकिस्तान: आतंकी हाफिज सईद अपनी पार्टी छोड़ इस पार्टी से लड़ेगा आम चुनाव, ये है वजह

जांचकर्ताओं का कहना है कि आसिया ने लश्कर प्रमुख हाफिज सईद के साथ सालों से खुले तौर पर जुडी हुई है, लेकिन उसे कभी कानून का सामना नहीं करना पड़ा. जांच के साथ जुड़े एक अधिकारी ने कहा, "उसने टेलीफोन पर हाफिज सईद की एक रैली को संबोधित किया. वह उसे अपनी बहन कहता है.''

आसिया के ट्विटर अकाउंट खगांले जाने पर पता चला कि लश्कर के कई लोग उसके फ़ॉलोवर है. एक अधिकारी के अनुसार, "उनमें से कुछ कश्मीर घाटी में स्थित कुछ सक्रिय आतंकवादी हैं और कुछ पाकिस्तान-कब्जे वाले कश्मीर में भी हैं."

ये भी पढ़ें- 'आतंकी हाफिज सईद के काफी करीबी हैं कांग्रेस के सीनियर नेता गुलाम नबी आजाद और सैफुद्दीन सोज'

 

NIA ने उसके ट्वीट्स का अनुवाद भी शुरू कर दिया है जो कि ज्यादातर उर्दू भाषा में किये गए हैं. अधिकारीयों का कहना है कि वह खुले तौर पर भारत विरोधी भावनाओं को ट्वीट करती है. NIA के दस्तावेजों के अनुसार वे पाकिस्तानी प्रतिष्ठान के समर्थन की मांग करने के लिए एक संगठित अभियान चला रहे थे, जिसमें अन्य बातों से पाकिस्तान से आतंकवादी संस्थाओं से समर्थन की व्यवस्था भी शामिल है.

ये भी पढ़ें- UN ने दाऊद को किया आंतकी घोषित, पाक में ठिकाने पर लगाई मुहर

अधिकारीयों का कहना है कि आसिया को राज्य से संरक्षण प्राप्त है जिसके चलते अभी तक उस पर आरोप नहीं लगे. अधिकारी ने बताया,'' हालांकि कई बार उसे नजरबंद कर लिया गया था, फिर भी वह पाकिस्तान में भारत विरोधी आतंकवादी तत्वों में शामिल होने के लिए पर्याप्त स्वतंत्रता का आनंद ले रही है, "

अधिकारी ने बताया कि इस बार उनके पास ये साबित करने के लिए पर्याप्त सबूत हैं कि वह सड़कों पर विरोध प्रदर्शन करने के लिए विभिन्न कॉलेजों के महिला छात्रों को उत्तेजित कर रही थी.

 

 

First published: 10 July 2018, 8:03 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी