Home » इंडिया » NIA: lt col purohit not an accused in samjhauta blast
 

एनआईए: समझौता ब्लास्ट में कर्नल पुरोहित के खिलाफ सबूत नहीं

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 February 2017, 1:50 IST

एनआईए की ओर से मंगलवार को बताया गया कि समझौता एक्सप्रेस ब्लास्ट मामले में लेफ्टिनेंट कर्नल प्रसाद पुरोहित के खिलाफ कोई सबूत नहीं है. लेकिन मालेगांव ब्लास्ट में पुरोहित के खिलाफ जांच जारी है.

एनआईए के महानिदेशक शरद कुमार ने कहा, "समझौता विस्फोट में उनके खिलाफ कोई सबूत नहीं है. वो कभी भी आरोपी नहीं थे. मुझे हैरानी है कि इस मामले में उनका नाम क्यों जोड़ा जा रहा है."

पढ़ें:मालेगांव धमाका: एनआईए की उलटबांसी उसकी साख पर बट्टा है

2008 में मालेगांव ब्लास्ट के मामले में मुंबई एटीएस ने पुरोहित के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की थी. एनआईए के पास मामले की जांच है. एनआईए ने समझौता एक्सप्रेस ब्लास्ट मामले में आठ लोगों के खिलाफ आरोपपत्र दायर किया है.

इनमें नभ कुमार सरकार उर्फ स्वामी असीमानंद, दिवंगत सुनील जोशी उर्फ सुनीलजी, लोकेश कुमार, कमल चौहान, अमित, राजेंद्र, रामचंद्र कलसंगरा और संदीप दांगे शामिल हैं. आरोपी रामचंद्र और संदीप अब भी फरार हैं.

2007 में हुआ था समझौता एक्सप्रेस ब्लास्ट

ये मामला 18 फरवरी, 2007 को हरियाणा के पानीपत के पास अटारी एक्सप्रेस (समझौता) ट्रेन में हुए धमाकों की आपराधिक साजिश से संबंधित है.

ब्लास्ट के बाद ट्रेन के डिब्बों में आग लगने से 68 लोग मारे गए थे. महिलाओं और बच्चों समेत 12 यात्री भी धमाकों में घायल हो गए थे.

पढ़ें:मुंजे को हिंदुत्व का नया हीरो बनाने की तैयारी

दूसरा मामला जिसमें पुरोहित आरोपी हैं वो 29 सितंबर, 2008 का है. जब महाराष्ट्र के मालेगांव में हुए बम विस्फोट में चार लोग मारे गए थे. ब्लास्ट में कई लोग जख्मी भी हुए थे.

First published: 20 April 2016, 11:57 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी