Home » इंडिया » NIA to probe uri attack, all four terrorists buried in uri, kashmir
 

उरी हमले में एनआईए की तफ़्तीश शुरू, आतंकियों को दफनाया गया

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 February 2017, 5:48 IST

राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने उरी आतंकवादी हमले में एफआईआर दर्ज करके अपनी तफ़्तीश शुरू कर दी है. उरी पहुंची एनआईए की एक टीम ने चारों आतंकियों से जुड़े तमाम सुबूत इकट्ठा किए.

इनमें खून के नमूने और फिंगर प्रिंट्स वग़ैरह शामिल हैं. सेना जल्द ही आतंकियों के पास से बरामद हथियारों का ज़खीरा, जीपीएस, मैप भी एनआईए को सौंप देगी. वहीं आतंकियों को सोमवार को ही उरी में दफ़्नाया जा चुका है.

एनआईए के लिए यह पता लगाना सबसे बड़ी चुनौती है कि चारो आतंकी किस रूट से उरी तक पहुंचे थे. लिहाज़ा इनके पास से बरामद जीपीएस फॉरेंसिक जांच के लिए अमेरिका भेजे जाएंगे. चूंकि सेना पर हमला करने वाले सभी चारों आतंकी फिदाइन थे और उन्हें मारा जा चुका है, तो पूछताछ जैसी कोई गुंजाइश बचती नहीं है.

वैसे इस हमले की जांच में खुलासा करने के लिए एनआईए के पास बहुत कुछ नहीं है, क्योंकि जैश-ए-मुहम्मद का नाम सामने आ चुका है. इस हमले के बाद से ही भारत-पाकिस्तान के अलावा जम्मू-कश्मीर से लगने वाली अंतरराष्ट्रीय सीमा पर तनाव भी बढ़ गया है. उरी में मंगलवार को भी गोलीबारी की आवाज़ें सुनाई देती रहीं.

इससे पहले एनआईए को पठानकोट स्थित वायुसेना के एयरबेस पर हुए हमले की जांच सौंपी गई थी. पठानकोट हमला 2 जनवरी 2016 की सुबह 3:30 बजे हुआ था. इसमें पांच आतंकियों को मार गिराया गया था, जबकि सात जवान शहीद हुए थे.

इस हमले में भी जैश-ए-मुहम्मद का नाम सामने आया था. उसके नौ महीने बाद रविवार को एक बार फिर उससे बड़ा हमला हो गया. इस हमले में सेना के 18 जवान शहीद हो चुके हैं.

First published: 20 September 2016, 5:59 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी