Home » इंडिया » Nigerian nationals attacked in Greater Noida: Locals allege 19 yr old Manish had died after Nigerians forced him to inhale drugs
 

ग्रेटर नोएडा: ड्रग्स, मनीष की मौत और निशाने पर नाइजीरियाई छात्र

कैच ब्यूरो | Updated on: 28 March 2017, 10:45 IST
(एएनआई)

यूपी के ग्रेटर नोएडा में 12वीं के छात्र मनीष खारी की मौत के बाद नाइजीरियाई छात्र निशाने पर हैं. स्थानीय लोगों का आरोप है कि मौत की वजह ड्रग्स का ओवरडोज़ हो सकता है. दिवंगत मनीष के पिता किरणपाल सिंह खारी जो कि इलाके में प्रॉपर्टी डीलिंग का काम करते हैं ने कासना कोतवाली में केस दर्ज कराया है.

बुलंदशहर के शेरपुर गांव के रहने वाले किरणपाल ग्रेटर नोएडा के एनएसजी सोसायटी में रहते हैं. शुक्रवार शाम को उनका 19 साल का बेटा मनीष खारी लापता हो गया. जेपी इंटरनेशनल स्कूल से वह 12वीं की पढ़ाई कर रहा था. परिजनों का आरोप है कि पांच नाइजीरियाई छात्रों ने मनीष को नशीली कोल्ड ड्रिंक पिलाई और उसकी जान ले ली. 

पांच नाइजीरियाई छात्रों पर मुकदमा

इस बीच मनीष पोस्टमार्टम रिपोर्ट में उसकी मौत की वजह साफ नहीं हो पाई है. ग्रेटर नोएडा पुलिस ने बिसरा सुरक्षित करके प्रयोगशाला में जांच के लिए भेज दिया है. वहीं मनीष की मौत के मामले में परिजनों की शिकायत के बाद पांच नाइजीरियाई युवकों पर हत्या का केस दर्ज हुआ है.

केस दर्ज होने के बाद करीब पचास की तादाद में नाइजीरियाई युवक-युवतियों ने रविवार को कई घंटे तक कासना कोतवाली के बाहर विरोध प्रदर्शन किया था. कासना पुलिस ने मोहम्मद शाकिर, उस्मान अब्दुल कादिर, सईद कबीर, अब्दुल उस्मान और सईद अबू वकार के खिलाफ केस दर्ज किया है. सभी इलाके के एनआईयू इंस्टीट्यूट के छात्र हैं.

एएनआई

नाइजीरियन Vs स्थानीय नागरिक

शुक्रवार शाम साढ़े सात बजे मनीष खारी के लापता होने के बाद रात भर सोसायटी में हंगामा मचा था. मामले में नया मोड़ उस वक्त आया, जब शनिवार को मनीष खुद घर पहुंचा. हालांकि बताया जा रहा है कि वह बुरी तरह नशे में था और खून की उल्टी कर रहा था.

शनिवार शाम को अस्पताल में इलाज के दौरान मनीष की मौत हो गई.  पिता का कहना है कि नाइजीरियाई युवकों ने उसे ड्रग्स दिया था. वहीं एनएसजी सोसायटी का सीसीटीवी कैमरा डेढ़ महीने से खराब है. 

कासना पुलिस की तफ्तीश में सामने आया है कि शुक्रवार शाम को मनीष के ट्यूटर ने एसएमएस किया था कि वह पढ़ाने के लिए नहीं आएंगे. यूपी में इस वक़्त बोर्ड परीक्षा भी चल रही है. ऐसे में पुलिस इस एंगल से भी वारदात की जांच कर रही है. 

अब इस मामले को लेकर स्थानीय एनएसजी सोसायटी के लोग और नाइजीरियाई नागरिक आमने-सामने हैं. इलाके के लोग आरोप लगा रहे हैं कि नाइजीरियाई ड्रग्स के काले कारोबार में लिप्त हैं, लिहाजा उन्हें सोसाइटी से बाहर किया जाए. सोमवार को सोसायटी के लोगों ने परीचौक तक कैंडल मार्च भी निकाला. 

नाइजीरियन एंबेसी में शिकायत

दूसरी ओर छात्र की मौत के बाद पुलिस ने पांच नाइजीरियन युवकों को हिरासत में लिया था. हालांकि रविवार को विरोध प्रदर्शन और नाइजीरियन दूतावास के दखल देने के बाद युवकों को रिहा कर दिया गया.

नाइजीरियन युवकों ने स्थानीय लोगों के खिलाफ एंबेसी में शिकायत की है. इसमें कहा गया है कि शुक्रवार देर रात 12 से दो बजे के बीच सोसायटी के लोगों ने जबरन उनके कमरे की तलाशी ली. इस दौरान फ्रिज को कई बार खोला-बंद किया गया. एसोसिएशन ऑफ अफ्रीकन स्टूडेंट्स इन इंडिया ने विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से भी मामले में दखल देने की मांग की है. 

सुषमा ने सीएम आदित्यनाथ से की बात 

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने इस मामले में यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ से बातचीत की है. सुषमा ने ट्वीट करके इस बारे में जानकारी दी है. 

विदेश मंत्री ने कहा, "मैंने उत्तर प्रदेश के ग्रेटर नोएडा में अफ्रीकी छात्रों पर हमले को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी से बात की है. उन्होेंने भरोसा दिलाया है कि इस दुर्भाग्यपूर्ण घटना की निष्पक्ष और पारदर्शी जांच की जाएगी."

First published: 28 March 2017, 10:45 IST
 
अगली कहानी