Home » इंडिया » Nirbhaya Gangrape Case: Supreme Court dismisses review pleas filed by 3 of the 4 convicts
 

निर्भया केस: सभी दोषियों को होगी फांसी, सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की याचिका

कैच ब्यूरो | Updated on: 9 July 2018, 14:45 IST

16 दिसंबर, साल 2012 में हुए निर्भया गैंगरेप मामले में आज(9 जुलाई) सुप्रीम कोर्ट ने चार दोषियों में से तीन की पुनर्विचार याचिका पर फैसला सुनाया. सुप्रीम कोर्ट ने तीनों दोषियों के खिलाफ कोई भी नरमी न दिखाते हुए उनकी याचिका खारिज कर दी है. इसके साथ ही तीनों दोषियों की फांसी की सजा बरकरार रखी गई है. 

सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद निर्भया की मां ने कहा कि वह सुप्रीम कोर्ट के फैसले से खुश हैं लेकिन दोषियों को जल्द से जल्द फांसी देनी चाहिए. 

बता दें कि इससे पहले 4 मई को सुप्रीम कोर्ट ने दोषियों की पुनर्विचार याचिका पर फैसला सुरक्षित रख लिया था. मामले में दोषियों विनय शर्मा, पवन गुप्ता और मुकेश सिंह ने पुनर्विचार याचिका डाली थी. दोषियों की तरफ से कहा गया था कि ये मामला फांसी की सजा का नहीं है. वो गरीब पृष्ठभूमि से आए हुए हैं, वो आदतन अपराधी नहीं हैं इसलिए सुधरने का मौका दिया जाए.

गौरतलब है कि दिल्ली में चलती बस में गैंगरेप के मामले में कुल 6 आरोपी पकड़े गए थे. जिनमें राम सिंह नाम के आरोपी में जेल में आत्महत्या कर ली थी. उसकी मौत के बाद मामले में बाकी पांच को दोषी पाया गया था. इन पांच दोषियों में एक नाबालिग दोषी को अधिकतम तीन साल की सजा के साथ सुधार गृह भेज दिया गया था.

पढ़ें- यूपी: पूर्वांचल के कुख्यात डॉन मुन्ना बजरंगी की जेल में गोली मारकर हत्या, आज होनी थी पेशी

नाबालिग को छोड़कर बाकी चार को सजा-ए-मौत मिली है. 13 सितंबर, 2013 को चार दोषियों को फांसी की सजा सुनाई गई थी. सुप्रीम कोर्ट ने अपने 2017 के फैसले में दिल्ली हाईकोर्ट और निचली अदालत द्वारा गैंगरेप और हत्या के मामले में उन्हें सुनाई गई मौत की सजा को बरकरार रखा था.

First published: 9 July 2018, 14:30 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी