Home » इंडिया » Nitin Gadkari statement on reservation says there is no job
 

आरक्षण पर नितिन गडकरी बोले- जब नौकरी ही नहीं है तो लेकर क्या करोगे

कैच ब्यूरो | Updated on: 5 August 2018, 9:36 IST

मोदी सरकार में बड़े मंत्री नितिन गडकरी ने एक ऐसा बयान दिया है जिससे बवाल मच सकता है. केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा है कि आरक्षण रोजगार की गारंटी नहीं है. उन्होंने कहा कि देश में रोजगार ही नहीं है तो आरक्षण का क्या फायदा. इसके अलावा उन्होंने जाति के आधार पर नहीं बल्कि गरीबी के आधार पर आरक्षण होने की बात कही.

नितिन गडकरी ने कहा कि गरीब की जाति, भाषा और क्षेत्र नहीं होती है. बैंक में आईटी के कारण नौकरियां कम हुई हैं. सरकारी भर्ती रुकी हुई हैं. नौकरियां कहां हैं?

पढ़ें- मध्यप्रदेश: शिवराज दिग्विजय सिंह को छोड़ उमा भारती समेत कई पूर्व मुख्यमंत्रियों पर हुए मेहरबान

गडकरी का बयान ऐसे समय में आया है जब महाराष्ट्र में मराठा आर्थिक आधार पर आरक्षण की मांग कर रहे हैं. उनका कहना है कि मराठा समुदाय को सरकारी नौकरियों और शिक्षा के क्षेत्र में 16 प्रतिशत आरक्षण मिले. संविधान में आरक्षण का प्रावधान जाति के आधार पर है न की आर्थिक आधार पर.

बता दें कि महाराष्ट्र में 16 प्रतिशत आरक्षण की मांग को लेकचर मराठा समुदाय का आंदोलन जारी है. मराठा समुदाय पिछले कई दिनों से पुणे, नासिक, औरंगाबाद में हिंसक आंदोलन कर रहे हैं. इस आंदोलन में कई जगहों पर आगजनी भी हुई. कई जगहों से कथित तौर पर युवकों के आत्महत्या की भी खबरें आईं. इस पर पिछले दिनों विभिन्न राजनीतिक दलों से साथ सीएम देवेंद्र फडणवीस की बैठक भी हुई.

पढ़ें- आज भी यही कहूंगा, MP की सड़कें अमेरिका से भी अच्छी: शिवराज सिंह चौहान

इस बैठक में कानून के दायरे में मराठा समुदाय को आरक्षण देने पर विचार किया गया. सरकार ने कहा कि कानूनी प्रकिया की जांच के बाद मराठा आंदोलन के विषय में एलान किया जाएगा जिससे अन्य समुदायों को मिलने वाले आरक्षण पर कोई प्रभाव न पड़े.

First published: 5 August 2018, 9:36 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी