Home » इंडिया » Nitish kumar facebook ranking decreased after commenting on demonetisation in modi government four year completing programme
 

नीतीश कुमार को नोटबंदी पर सवाल उठाना पड़ा भारी, फेसबुक ने गिराई रैंकिंग

कैच ब्यूरो | Updated on: 29 May 2018, 14:06 IST

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को नोटबंदी पर सवाल उठाना भारी पड़ गया है. मोदी सरकार के चार साल पूरे होने पर नीतीश कुमार ने जो बयान दिया था उसे लेकर वो बैंकर्स के निशाने पर हैं. बैंकर्स के निशाने पे आने की वजह ये भी हो सकती है कि नोटबंदी से जुड़ा ये बयान नीतीश कुमार ने बैंकर्स के एक कार्यक्रम में ही दिया.

उस बयान को लेकर नीतीश कुमार को बैंकर्स की नाराजगी झेलनी पड़ रही है. लेकिन बात ये है कि ये सारा कुछ वर्चुअल वर्ल्ड यानि सोशल में हो रहा है. नीतीश के इस बयान के बाद अब फेसबुक ने उनकी रैंकिंग गिरा दी है. पिछले दो दिन में 16 हजार लोगों ने नीतीश कुमार के फेसबुक पेज को 1 रेटिंग दी है. इसी कारण नीतीश के फेसबुक पेज की रैंकिंग गिर कर 1 हो गयी.

क्या था बयान-

मुख्यमंत्री नीतीश ने पटना में राज्यस्तरीय बैंकर्स समिति के एक कार्यक्रम में कहा, 'देश में विकास के लिए जो धनराशि सरकार मुहैया कराती है, उसके सही आवंटन के लिए बैंकों को अपने तंत्र सुदृढ़ करने होंगे. बैंक 'ऑटोनोमस' है, ऊपर से नीचे तक इन चीजों को देखना होगा.'

 

इसके साथ ही नीतीश ने नोटबंदी के सफल न होने का जिम्मेदार बैंकों को बताया. उन्होंने कहा कि बैंकों की भूमिका के समुचित नहीं थी जिसकी वजह से जितना लाभ मिलना चाहिए था उतना नहीं मिला.

गौरतलब है कि नीतीश के इस बयान के बाद ही फेसबुक पर लोगों ने उनके पेज को पिछले 2 दिनों में सिर्फ 1 रेटिंग दी है. यानि उनके फेसबुक पेज पर सिर्फ एक स्टार है जो कि पहले से काम रेटिंग है. रेटिंग काम करने को लेकर लोगों ने कमेंट बॉक्स में अपने विचार भी लिखे हैं.

First published: 29 May 2018, 14:06 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी