Home » इंडिया » Nitish Kumar will play peacemaker role in NDA for seat sharing Ram Vilas Paswan Amit Shah
 

NDA में हुए घमासान के बीच 'शांतिदूत' का किरदार निभाएंगे नीतीश कुमार, सुलझाएंगे सीटों का बंटवारा

कैच ब्यूरो | Updated on: 21 December 2018, 14:11 IST

लोकसभा चुुनाव 2019 से पहले एनडीए में बवाल मचा हुआ है. अभी तक एनडीए में शामिल रहे बिहार की पार्टी आरएलएसपी के अध्यक्ष उपेंदर कुशवाहा ने एक दिन पहले ही महागठबंधन ज्वाइन कर लिया है. इसके बाद लोजपा के अध्यक्ष राम विलास पासवान भी एनडीए गठबंंधन से नाराज बताए जा रहे हैं. उनके बेटे चिराग पासवान ने एनडीए को तेवर दिखाया है.

वहीं अब खबर आ रही है कि एनडीए के घटक दलों को मनाने और सीट बंटवारे को लेकर हो रहे बवाल को रोकने के लिए बिहार के सीएम नीतीश कुमार शांतिदूत का काम करेंगे. नीतीश कुमार आज दिल्ली आ रहे हैं. 

माना जा रहा है कि नीतीश कुमार एनडीए के शीर्ष नेताओं से मुलाकात कर बिहार में सीटों पर छिड़े विवाद पर विराम लगाने का प्रयास करेंगे. नीतीश कुमार भाजपा को यह भी एहसास दिलाएंगे कि पासवान को खोने का मतलब बिहार में महागठबंधन के हाथ मजबूत करना होगा. एनडीए से लोजपा के हटने पर लड़ाई एक तरफा हो जाएगी और इसका सीधा फायदा महागठबंधन को होगा.

बता दें कि रामविलास पासवान अगले साल होने वाले लोकसभा चुनाव लड़ने के बजाए राज्यसभा से सांसद बनना चाहते हैं. वहीं भाजपा ने लोजपा से राज्यसभा सीटें का वादा तब किया था जब रालोसपा एनडीए का हिस्सा थी. लोजपा को बिहार में चार लोकसभा सीटें और असम में एक सीट दी गई थी. अब रालोसपा के जाने के बाद भाजपा लोकसभा सीटों में इजाफा कर 6 सीटें देने को तैयार है मगर राज्यसभा सीट के वादे पर पेंच फंसा हुआ है.

इस राज्यसभा सीट का वादा भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने सितंबर में किया था, जो अबतक अधूरा है. बिहार के मुख्यमंत्री भी इस मुद्दे पर पासवान के साथ खड़े नजर आ रहे हैं. आज लोजपा अध्यक्ष राम विलास पासवान और चिराग पासवान ने संसद में भाजपा नेता और नेता वित्त मंत्री अरूण जेटली से उनके कक्ष में मुलाकात की.

First published: 21 December 2018, 14:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी