Home » इंडिया » Nitish's strict Law & Order person image is braking
 

नीतीश का सुशासन: कार ओवरटेंकिंग की सजा मौत

निहारिका कुमारी | Updated on: 10 May 2016, 8:08 IST

बिहार के गया में जनता दल (यूनाइटेड) के एक नेता की लग्जरी कार को साइड नहीं देने की कीमत एक किशोर को अपनी जान के रूप में चुकानी पड़ी. आदित्य सचदेवा नाम के किशोर की हत्या का आरोप जद (यू) की विधान परिषद सदस्य मनोरमा देवी के बेटे रॉकी पर लगा है, जो घटना के बाद से फरार बताया जा रहा है.

इस अजीबोगरीब दुर्घटना के बाद से खबर है कि पूरे गया शहर में की जगह कई जगह आरोपी विधायक के खिलाफ धरना प्रदर्शन शुरू हो गया है. प्रशान पर बढ़ते दबाव के बीच रविवार की सुबह इस मामले में एमएलसी के पति और जदयू के बाहुबली नेता बिंदी यादव को गिरफ्तार कर लिया.

17 साल का आदित्य सचदेव गया के प्रतिष्ठित नाजरेथ एकेडमी का छात्र था और उसने इसी साल 12वीं की परीक्षा दी थी. उसके पिता गया के बड़े कारोबारी हैं.

मामला शनिवार रात का है, जब आदित्य बोधगया में अपने एक दोस्त की जन्मदिन की पार्टी से घर लौट रहा था. आदित्य के दोस्तों के मुताबिक बोधगया से वापसी के वक्त एक रेंज रोवर गाड़ी को साइड नहीं दे पाए थे. 

जब उन्होंने मना कर दिया, तो रॉकी ने आदित्य के सिर में गोली मार दी

आदित्य के दोस्त आयुष ने पुलिस को बयान दिया कि रामपुर थाना क्षेत्र में सेंट्रल जेल के पास उस रेंज रोवर ने उनकी मारुति स्विफ्ट कार को ओवरटेक करके रोका.

JDU MLC car

बाहुबली बिंदी यादव और उनकी कार

पुलिस को दिए बयान के मुताबिक उसमें एक पुलिस का जवान और रॉकी बाहर निकले. पुलिसकर्मी के हाथों में बंदूक थी, जबकि रॉकी के हाथों में रिवॉल्वर था. रॉकी ने सीधे आदित्य के सिर पर पिस्तौल तान दी और सभी से बाहर निकलने को कहा. 

जब उन्होंने मना कर दिया, तो रॉकी ने आदित्य के सिर में गोली मार दी. इससे मौके पर ही आदित्य की मौत हो गई. इसके बाद रॉकी ने अपनी गाड़ी में बैठकर भाग निकला.

गोली की आवाज और मदद की पुकार सुनकर आस-पास के लोग इकट्ठा हो गए. जल्दी ही पुलिस भी मौके पर पहुंच गई. शुरुआत में पुलिस ने रोड-रेज का मामला दर्ज किया. बाद में आदित्य के दोस्तों के बयान के आधार पर रात 1.30 बजे मनोरमा देवी के घर से उनकी रेंज रोवर गाड़ी जब्त की गई. 

रविवार सुबह इस बाबत जब खबर चल रही थी तब बिंदी यादव ने टीवी चैनलों से कहा कि रॉकी ने आत्मरक्षा में गोली चलाई 

इसके बाद रॉकी की तलाश शुरू हुई. रविवार दोपहर में इस मामले में पुलिस ने उसके पिता बिंदी यादव को भी हिरासत में ले लिया. घटना के वक्त रॉकी के साथ कार में मौजूद मनोरमा देवी के अंगरक्षक को भी गिरफ्तार कर लिया गया है.

रविवार सुबह इस बाबत जब खबर चल रही थी तब बिंदी यादव ने टीवी चैनलों से कहा कि रॉकी ने आत्मरक्षा में गोली चलाई थी. उन्होंने कहा था, “शनिवार रात साइड नहीं दिए जाने पर रॉकी की कुछ लोगों के साथ झपड़ हुई थी. इसके बाद मारपीट होने लगी. इस पर अपनी रक्षा के लिए रॉकी ने अपनी लाइसेंसी पिस्तौल निकल ली. मारपीट के दौरान रॉकी के पिस्तौल से गोली चल गई.” 

हालांकि, दोपहर होते-होते उन्होंने अपना बयान बदल लिया और कहने लगे कि रॉकी गया में आया ही नहीं था और बीते कई महीनों से दिल्ली में पढ़ाई कर रहा है.

इस घटना के बाद राज्य की नीतीश कुमार सरकार पर भी दबाव बढ़ गया है. जेडीयू के राष्ट्रीय महासचिव श्याम रजक ने कैच को बताया, “कानून व्यवस्था ही नीतीश कुमार की पहचान रही है. इसलिए इससे समझौता करने का कोई प्रश्न ही नहीं उठता है. आपराधी चाहे कोई भी हो उसके खिलाफ कार्रवाई होगी यह नीतीशजी ने साफ कर दिया है.”

दूसरी ओर मृतक आदित्य सचदेवा के परिवार में इस हादसे से हड़कंप मच गया है. गुस्साए परिवार ने अपराधियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की है. आदित्य के भाई कमल सचदेवा ने कहा, “इन लोगों ने हमसे हमारा भाई छीन लिया है. इनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए. उन्हें पुलिस को तुरंत गिरफ्तार करना चाहिए.”

यह लालू-नीतीश के मिलने का स्वाभाविक नतीजा है. जिस जंगलराज की हम आशंका व्यक्त कर रहे थे वह बिहार की सड़कों पर साफ दिख रहा है

बिंदी यादव जिला परिषद के अध्यक्ष रह चुके हैं और इलाके में उनकी छवि एक बाहुबली नेता की है. इस वक्त उनके भाई शीतल यादव जिला परिषद के उपाध्यक्ष हैं. घटना के बाद गया शहर में गुस्से का माहौल है. 

शहर के कई इलाकों में भाजपा कार्यकर्ताओं ने सड़क जाम कर दिया. शहर में कई इलाकों में भारी तादाद में पुलिस बलों को तैनात किया गया है.

गया से भाजपा विधायक और विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष प्रेम कुमार ने सरकार पर हमला बोलते हुए कहा, 'यह लालू-नीतीश के मिलने का स्वाभाविक नतीजा है. जिस जंगलराज की हम आशंका व्यक्त कर रहे थे वह बिहार की सड़कों पर साफ दिख रहा है. कानून व्यवस्था की स्थिति यह हो गई है कि कुछ दिन पहले ही एक और विधायक के बेटे ने एक कलक्टर को पीट दिया था.'

बीते कुछ महीनों के दौरान गया जिले में इस तरह की यह दूसरी घटना है, जब सत्तारुढ़ गठबंधन के नेताओं के परिजनों ने इस तरह से कानून को अपने हाथ में लिया है. इससे पहले जनवरी में राजद विधायक कुंती देवी के बेटे ने नीमचक पठानी इलाके में एक सरकारी डॉक्टर की पिटाई कर दी थी. 

इस घटना के बाद भी जबर्दस्त राजनीतिक हंगामा मचा था. दबाव में तब भी पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार करके जेल भेज दिया था. कुंती देवी के पति सुरेंद्र यादव भी जेल में हैं.

First published: 10 May 2016, 8:08 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी