Home » इंडिया » No-Confidence Motion: BJP Gets 3.5 Hours To Speak and Congress only 38 Minutes
 

अविश्वास प्रस्ताव: BJP को बहस के लिए 3.30 घंटे, कांग्रेस को सिर्फ 38 मिनट

कैच ब्यूरो | Updated on: 20 July 2018, 9:03 IST

आज लोकसभा में मोदी सरकार की अग्निपरीक्षा है. लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन ने 18 जुलाई को तेलुगू देशम पार्टी के अविश्वास प्रस्ताव को मंजूर कर लिया है. इस पर आज यानि 20 जुलाई को शक्ति परीक्षण कराने को कहा है. ऐसे में आज सुबह 11 बजे जैसे ही लोकसभा की कार्यवाही शुरू होगी इस पर जोरदार बहस की उम्मीद है.

लेकिन आपको जानकर आश्चर्य होगा कि सदन में अविश्वास प्रस्ताव पर अपने विचार रखने के लिए मोदी सरकार यानि भाजपा को 3.30 घंटे का समय दिया गया है तो मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस को सिर्फ 38 मिनट का समय दिया गया है. वहीं सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने वाले मुख्य दल तेलुगु देशम पार्टी (टीडीपी) को इस पर चर्चा करने और बोलने के लिए अध्यक्ष ने सिर्फ 13 मिनट का समय दिया है.

पढ़ें- RTI में बदलाव पर बोले राहुल- BJP सच छुपाने में रखती है विश्वास

सुमित्रा महाजन ने बीजेपी को चर्चा में तीन घंटे और 33 मिनट का समय दिया गया है. संसद में बीजेपी को ओर से चर्चा की शुरुआत राकेश सिंह करेंगे और सरकार की तरफ से अंत में पीएम मोदी लोकसभा में बोलेंगे. कांग्रेस को प्रस्ताव पर अपने विचार रखने के लिए 38 मिनट का समय दिया गया है. कांग्रेस की तरफ से अध्यक्ष राहुल गांधी और सदन में पार्टी के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे बोल सकते हैं.

इसके अलावा अन्य विपक्षी दल अन्नाद्रमुक, तृणमूल कांग्रेस, बीजू जनता दल (बीजद), तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) को क्रमश: 29 मिनट , 27 मिनट , 15 मिनट और नौ मिनट का समय दिया गया है. 

पढ़ें- शिवसेना ने सामना में दिए यू टर्न के संकेत, उद्धव ठाकरे ने शाह को दिया था सपोर्ट का भरोसा

बता दें कि अविश्‍वास प्रस्‍ताव पर चर्चा के दौरान ना तो प्रश्नकाल होगा, ना ही लंच ब्रेक होगा. यहां तक कि शुक्रवार को होने वाला निजी विधेयक का समय भी अगले सप्ताह तक के लिए टाल दिया गया है. 11 बजे से लगातार 6 बजे तक सिर्फ भाषणों का दौर चलेगा. 

गौरतलब है कि 545 सदस्यों वाली लोकसभा में मौजूदा समय में 535 सांसद हैं. बीजेपी को बहुमत हासिल करने के लिए महज 267 सांसद चाहिए. अगर लोकसभा अध्यक्ष को हटा दें तब भी बीजेपी के पास अभी 273 सदस्य हैं. इसके अलावा बीजेपी के सहयोगी दलों में शिवसेना के 18, एलजेपी के 6, अकाली दल के 4, आरएलएसपी के 3, जेडीयू के 2, अपना दल के 2 व अन्य के 6 सदस्य हैं

First published: 20 July 2018, 8:59 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी