Home » इंडिया » No Confidence Motion: Shiv Sena will suppoert to BJP on a call of Amit Shah to uddhav thackeray
 

अविश्वास प्रस्ताव: अमित शाह का उद्धव ठाकरे को एक फोन कॉल और चारों खाने चित हो गया विपक्ष

कैच ब्यूरो | Updated on: 19 July 2018, 15:37 IST

शुक्रवार (20 जुलाई) को मोदी सरकार के खिलाफ होने जा रहे अविश्वास प्रस्ताव से ठीक पहले अमित शाह ने कुछ ऐसा कर दिया जिसके कारण विपक्ष चारों खाने चित्त हो गया. अमित शाह ने बीजेपी से नाराज चल रहे उद्धव ठाकरे को फोन किया और इधर अविश्वास प्रस्ताव लाने जा रहे विपक्ष को बड़ा झटका लगा. शिवसेना ने फैसला किया है कि वह अविश्वास प्रस्ताव में मोदी सरकार का समर्थन करेगी.

दरअसल अमित शाह के फोन के बाद ठाकरे का यह फैसला आया है. बता दें कि आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा दिलाने के मुद्दे पर टीडीपी मोदी सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव ला रही है. पहले वह एनडीए में थी लेकिन कुछ महीनों पहले उसने एनडीए छोड़ दिया था.

 

अगले साल होने जा रहे लोकसभा चुनाव से पहले विपक्ष के लिए यह अच्छा मौका था कि वह मोदी सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव में एकजुट होती. लेकिन अब शिवसेना के मोदी सरकार को समर्थन देने के फैसले से विपक्ष को तगड़ा झटका लगा है.  

गौरतलब है कि 545 सदस्यों वाली लोकसभा में मौजूदा समय में 535 सांसद हैं. बीजेपी को बहुमत हासिल करने के लिए महज 267 सांसद चाहिए. अगर लोकसभा अध्यक्ष को हटा दें तब भी बीजेपी के पास अभी 273 सदस्य हैं. इसके अलावा बीजेपी के सहयोगी दलों में शिवसेना के 18, एलजेपी के 6, अकाली दल के 4, आरएलएसपी के 3, जेडीयू के 2, अपना दल के 2 व अन्य के 6 सदस्य हैं.

पढ़ें- RTI में बदलाव पर बोले राहुल- BJP सच छुपाने में रखती है विश्वास

इस तरह से मोदी सरकार के सपोर्ट में सांसदों की कुल संख्या 314 पहुंच रही है. ऐसे में बीजेपी को अविश्वास प्रस्ताव को गिराने और सरकार को बचाने में कोई दिक्कत नहीं होने वाली. मोदी सरकार को अविश्वास प्रस्ताव गिराने के लिए सहयोगियों की भी जरूरत नहीं है. सदन में अविश्वास प्रस्ताव का औंधे मुंह गिरना तय है.

First published: 19 July 2018, 15:37 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी