Home » इंडिया » No university of India in world top 300 ranking after 2012 for the first time
 

2012 के बाद पहली बार वर्ल्ड टॉप 300 रैंकिंग में भारत की कोई यूनिवर्सिटी नहीं

कैच ब्यूरो | Updated on: 12 September 2019, 10:14 IST

टाइम्स हायर एजुकेशन (THE) की वर्ल्ड रैंकिंग में इस बार टॉप 300 की सूची में भारत की कोई भी यूनिवर्सिटी जगह नहीं बना पायी. 2012 के बाद यह पहली बार है जब भारत शीर्ष 300 की सूची से बाहर हो गया है. हालांकि इस बार इस सूची 49 की जगह 56 भारतीय विश्वविद्यालयों ने जगह बनाई.

भारत के सर्वश्रेष्ठ प्रतिनिधित्व वाले विश्वविद्यालय इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस (IISc) बैंगलोर ने टॉप 350 ब्रैकेट में जगह बनाई है. हालांकि अनुसंधान वातावरण, शिक्षण वातावरण और उद्योग आय में सुधार हुआ है. दूसरी ओर भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (IIT) रोपड़ भी भी इस बार टॉप 350 रैंकिंग में पहुंच गया है.

इस साल भी लगातार चौथी बार यूनिवर्सिटी ऑफ ऑक्सफर्ड ने टॉप पर कब्जा बरकरार रखा. एशिया में चीन की टॉप 2 यूनिवर्सिटी में रहा. चीन की Tsinghua यूनिवर्सिटी को ग्लोबल रैंकिंग में 23वीं पोजिशन और Peking को 24वीं पोजिशन हासिल हुई.

इस साल लगभग सात भारतीय विश्वविद्यालय की रैंकिंग में गिरावट आयी है. जबकि देश के अधिकांश संस्थान स्थिर रहे. हालांकि आईआईटी-दिल्ली, आईआईटी-खड़गपुर और जामिया मिलिया इस्लामिया की रैंकिंग में थोड़ा ही सुधार हुआ है.

भारत जापान और चीन के बाद दुनिया में पांचवें सबसे अधिक प्रतिनिधित्व वाले देश के रूप में और एशिया में तीसरा सबसे अधिक प्रतिनिधित्व वाला देश है. THE के अनुसार, सर्वश्रेष्ठ भारतीय संस्थानों में आम तौर पर पर्यावरण और उद्योग आय के शिक्षण के लिए अपेक्षाकृत मजबूत स्कोर की विशेषता होती है, लेकिन अंतरराष्ट्रीय दृष्टिकोण की बात करें तो यह खराब है.

RSS प्रमुख मोहन भागवत के काफिले से 6 साल के बच्चे की मौत, एक व्यक्ति घायल

 

First published: 12 September 2019, 10:12 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी