Home » इंडिया » Noida Police: The meat samples were not from Mohammad Akhlaq's home
 

नोएडा पुलिस: गोमांस का सैंपल अखलाक के घर का नहीं

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 February 2017, 1:50 IST
(फाइल फोटो)

दादरी के बिसाहड़ा गांव में अखलाक के घर से मिले कथित सैंपल की फॉरेंसिक रिपोर्ट पर नोएडा पुलिस ने ही सवाल खड़े किए हैं. ब्रिटिश ब्रॉडकास्टिंग कॉरपोरेशन (बीबीसी) के मुताबिक पुलिस का कहना है कि मांस का सैंपल अखलाक के घर से नहीं मिला था. मथुरा की फॉरेंसिक रिपोर्ट में कहा जा रहा है कि मांस का सैंपल गाय या गोवंश का था.

गौतमबुद्धनगर के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक किरन एस का कहना है, "मथुरा लैब की जिस नई रिपोर्ट की बात की जा रही है, उस रिपोर्ट में जांच का सैंपल मीट अखलाक के घर के पास एक ट्रांसफार्मर के नजदीक मिला था."'

एसएसपी ने कहा, "मोहम्मद अखलाक का शव भी वहीं पाया गया था. एसएसपी किरन एस ने साफ किया है कि सैंपल के गोमांस होने से जांच पर कोई असर नहीं पड़ेगा, क्योंकि ये हत्या का मामला है.

मंगलवार को आई मथुरा की फॉरेंसिक रिपोर्ट के मुताबिक दिल्ली से सटे ग्रेटर नोएडा के दादरी इलाके में गोमांस पकाने की अफवाह में भीड़ के हाथों मारे गए मोहम्मद अखलाक के घर से मिला मांस गोमांस था. 

दो अलग रिपोर्ट से सवाल

इसके पहले एक दूसरी लैब ने फॉरेंसिक जांच में अखलाक के फ्रिज में मिले मांस को बकरे का मांस होने की जानकारी दी थी. दूसरी रिपोर्ट मथुरा की फॉरेंसिक लैब ने दी है. रिपोर्ट के मुताबिक मांस का सैंपल गाय या बछड़े का है.

उत्तर प्रदेश के पुलिस महानिदेशक जावेद अहमद का कहना है, "शुरुआत में हमने कहा था कि ये बकरे का मांस था, लेकिन बाद में इस लैब ने हमें बताया कि ये गाय का मांस था."

पढ़ें: फॉरेंसिक रिपोर्ट: दादरी में अखलाक के घर मटन नहीं बीफ था

अक्टूबर 2015 में जब यूपी सरकार ने सैंपल जांच कराई थी, तो इसे बकरे या बकरी का मांस बताया था. ऐसे में दो अलग-अलग रिपोर्ट से सवाल उठ रहे हैं.

28 सितंबर 2015 को हत्या

मोहम्मद अखलाक़ के घर पर पिछले साल 28 सितंबर को भीड़ ने हमला कर दिया था. इस हमले में अखलाक की मौत हो गई थी, जबकि उनका एक बेटा घायल हो गया था. आरोप है कि गांव के ही एक धार्मिक स्थल से लाउडस्पीकर पर अखलाक के घर में बीफ़ पाए जाने की घोषणा की गई थी.

इस मामले में पुलिस ने एक नाबालिग समेत 15 लोगों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की थी. घटना के बाद अखलाक के परिवार ने कहा था कि उनके घर में गाय का मांस नहीं था. मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक मथुरा लैब की रिपोर्ट सामने आने के बाद भी अखलाक के परिवार ने पुराने दावे को दोहराया है.

अखलाक के परिवार ने मथुरा लैब की फॉरेंसिक रिपोर्ट को ख़ारिज करते हुए कहा है कि उनके घर में किसी ने गाय का मांस नहीं खाया था. मथुरा लैब की रिपोर्ट अप्रैल 2016 में अदालत में जमा की गई थी.

First published: 1 June 2016, 1:34 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी