Home » इंडिया » Note ban: 15 of Modi's ministers hold over Rs 2.5 lakh in cash. Will they be report it?
 

नोटबंदी: 15 से ज़्यादा मोदी मंत्रियों के पास 2.5 लाख से ज्यादा नगदी, क्या आयकर विभाग को बताएंगे?

शौर्ज्य भौमिक | Updated on: 4 December 2016, 8:14 IST
(गेटी इमेजेज़ )

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने हाल ही में अपने सभी सांसदों और विधायकों को निर्देश दिया कि वे 8 नवम्बर से 31 दिसम्बर तक अपने बैंक अकाउंट स्‍टेटमेंट पार्टी के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष अमित शाह के पास जमा कराएं. इसमें कोई शक नहीं कि यह कोशिश पार्टी में वित्तीय ईमानदारी और पारदर्शिता बढ़ाने वाली है. प्रधानमंत्री हमेशा ही पारदर्शिता का वादा करते रहे हैं.

सभी कानून निर्माताओं को कानूनन अपनी सभी सम्पत्तियों का ब्यौरा चुनाव आयोग को देना होता है. ऐसे में उनकी संपत्ति कितनी है, इसकी जानकारी सबको होती है. मगर यह भी माना जाता है कि निश्चित रूप से यह कानून निर्माता अपनी संपत्ति का एक बड़ा हिस्सा छुपा कर रखते हैं. लिहाज़ा, यहां सिर्फ़ एक ही सवाल प्रासंगिक है कि मोदी के अपने सांसदों, विधायकों को दिए इस निर्देश से किसी भी छिपाई गई संपत्ति को उजागर करने में मदद मिल सकती है.

चुनाव आयोग को दिए घोषणापत्र के मुताबिक मोदी सरकार के मंत्रियों के पास काफी नगदी है. क्या इन कानून निर्माताओं ने अपनी नगदी बैंकों में जमा करा दी है. खासकर उन्होंने, जिनके पास, 2.5 लाख से ज्यादा की नगदी है. ज्यादा महत्वपूर्ण तो यह है कि क्या उन्होंने कर अधिकारियों को इस बात की सूचना दी है जैसा कि रिजर्व बैंक ने करने को कहा है. मोदी और उनके कुछ मंत्रियों की फाइनेंशियल डिटेल्स इस तरह हैं. 

65,29,400

रुपए की नगदी वित्त मंत्री अरुण जेटली के पास है. सभी भाजपा मंत्रियों में सबसे ज्यादा नगद राशि उनके ही पास है.

15

से ज़्यादा मोदी सरकार के मंत्री ऐसे हैं जिनके पास 2.5 लाख रुपए से ज्यादा की नगदी हाथ में है. इसमें अरुण जेटली, सुषमा स्वराज, स्मृति ईरानी और वीके सिंह भी शामिल हैं.

89,700

 रुपए नगद हैं प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के पास.

नॉन एप्लीकेबल क्या है?

नितिन गडकरी, मनोहर पर्रिकर, उमा भारती, सदानन्द गोडा, कलराज मिश्र,  मुख्तार अब्बास नकवी, किरन रिजिजू की अपनी खुद की घोषणा के मुताबिक  'कैश इन हैंड' की डिटेल्स  'नॉन एप्लीकेबल' है. यहां यह साफ़ नहीं है कि  'नॉन एप्लीकेबल' से क्या आशय है. सिर्फ़ वित्त राज्य मंत्री अर्जुन राम मेघवाल और रक्षा राज्य मंत्री सुभाष राव भामरे के पास कोई नगदी नहीं है. राज्य मंत्री गिरिराज सिंह और सुरिन्दर सिंह अहलूवालिया के पास कितनी नगदी है, इसका ब्यौरा नहीं मिल सका है.

7,472

रुपए की नगदी जल संसाधन, नदी विकास और गंगा संरक्षण राज्य मंत्री संजीव बालियान के पास है. सभी मंत्रियों की तुलना में सबसे कम राशि उन्हीं के पास है. विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री हर्षवर्धन के पास भी लगभग इतनी ही नगदी है.

First published: 4 December 2016, 8:14 IST
 
शौर्ज्य भौमिक @sourjyabhowmick

संवाददाता, कैच न्यूज़, डेटा माइनिंग से प्यार. हिन्दुस्तान टाइम्स और इंडियास्पेंड में काम कर चुके हैं.

पिछली कहानी
अगली कहानी