Home » इंडिया » Now Employee can only get half amount of EPF
 

नौकरी छोड़ने पर केवल आधा पीएफ ही मिलेगा

कैच ब्यूरो | Updated on: 8 March 2016, 15:02 IST

एक ओर भारी विरोध के बीच केंद्र सरकार ने ईपीएफ के 60 फीसदी हिस्से पर लगाए गए टैक्स के नियम को मंगलवार को वापस ले लिया है. लेकिन दूसरी ओर अब तक इस बात पर जनता और विपक्ष का शायद ध्यान नहीं गया है कि अब कर्मचारी ईपीएफ से अपना पूरा पैसा नहीं निकाल पाएंगे. 

केंद्रीय बजट 2016 की घोषणा से पहले ही ईपीएफओ ने इस संबंध में अधिसूचना जारी कर दी थी. जिसके मुताबिक अब अगर कर्मचारी नौकरी छोड़ता है तो उसे ईपीएफ का आधा पैसा ही मिलेगा. बाकी की रकम के लिए 58 वर्ष तक का इंतजार करना पड़ेगा. 

epf rule

कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) द्वारा जारी नए नियम के मुताबिक अगर कोई कर्मचारी बीच में ही नौकरी छोड़ देता है तो वो केवल स्वयं द्वारा किए गए अंशदान (हिस्से) की ही रकम निकाल सकेगा. बाकी कंपनी का हिस्सा 58 साल की उम्र पूरी होने के बाद ही निकाला जा सकेगा. इस रकम पर तब तक कर्मचारी को ब्याज भी मिलता रहेगा और वो पेंशन का भी हकदार होगा. मालूम हो कि पीएफ के लिए कर्मचारी और कंपनी दोनों को ही अपने मूल वेतन के 12-12 फीसदी का योगदान देना होता है. 

epf rule

नोएडा के क्षेत्रीय भविष्य निधि आयुक्त मनोज कुमार यादव ने बताया कि पहले कर्मचारी पीएफ के सारे पैसे नौकरी बीच में छोड़ते ही निकाल सकते थे पर अब वह ऐसा नहीं कर सकेंगे, क्योंकि इन नियमों में बदलाव कर दिए गए हैं. कर्मचारी अब बस अपने ही हिस्से का पैसा निकाल सकते हैं बाकी कंपनी के हिस्से को वह 58 साल की उम्र के बाद ही निकाल पाएंगे. इस नियम की अधिक जानकारी आपको ईपीएफ इंडिया.कॉम पर मिल जाएगी.

महिलाओं को मिलेगी छूट

इस नियम में एक अधिनियम के तहत महिला कर्मचारियों को यह छूट दी गई है कि अगर वह शादी करती है या प्रसव या गर्भावस्था की स्थिति के दौरान नौकरी बीच में छोड़ देती है तो वह अपने पीएफ के पूरे पैसे को निकलवा सकती है.

यूएएन नंबर की मदद से रकम होगी ट्रांसफर

कर्मचारी अगर कंपनी बदलता है तो वह अपने हिस्से के पीएफ के पैसे निकाल बाकी कंपनी के हिस्से को किसी दूसरी कंपनी, जहां वह ज्वाइन करता है, वहां के नए अकाउंट में ट्रांसफर कर सकता है. इन पैसों को कर्मचारी यूएएन नंबर की मदद से ट्रांसफर कर सकता है.

First published: 8 March 2016, 15:02 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी