Home » इंडिया » NSA Ajit Doval says India will need a strong, stable and a decisive government
 

NSA अजीत डोभाल बोले- देश को कड़े फैसले लेने वाली मजबूत सरकार की जरूरत

कैच ब्यूरो | Updated on: 25 October 2018, 18:10 IST

देश के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल ने कहा कि भारत को अगले दस सालों तक कड़े फैसले लेेने वाली मजबूत सरकार की जरूरत है. डोभाल ने कहा कि इसमें कोई संदेह नहीं कि साल 2030 तक भारत दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन जाएगा. दिल्ली के सरदार पटेल मेमोरियल लेक्चर में उन्होंने कहा कि कमज़ोर लोकतंत्र ऐसा देश बनाते हैं, जो 'नर्म शक्तियां' बनकर रह जाते हैं.

डोभाल ने कहा कि भारत 'नर्म शक्ति' नहीं बन सकता है. उसे ऐसे कदम उठाने होंगे, जिससे वह 'मज़बूत शक्ति' की काबिलियत हासिल कर सके. डोभाल ने भारत को अगले 10 साल के लिए निर्णायक सरकार की जरूरत पर बल दिया. ऐसी सरकार जो कड़े फैसले ले सके, जो लोगों के भले के लिए हों, भले ही लोकप्रिय फैसले न हों.

 

डोभाल ने कहा कि फर्ज़ी और झूठी कहानियों से जातीय, नस्ली हिंसा और दंगे फैलते हैं. फर्ज़ी और झूठी कहानियां देश को बहुत दुर्बल बना सकती हैं. हम पर जनता के प्रतिनिधियों का नहीं, उनके द्वारा बनाए गए कानूनों का शासन है, इसलिए कानून का राज़ बेहद अहम है.

डोभाल ने कहा कि लोकप्रिय कदमों को राष्ट्रहित से ऊपर नहीं रखा जाना चाहिए. कच्चे तेल की कीमतों में बढ़ोतरी हमारे लिए संकट है. इसलिए देश को उसका सामना करना ही होगा. एनएसए ने कहा कि देखिए, चीन की 'अलीबाबा' और अन्य किस तरह बड़ी कंपनियां बन गईं, चीन की सरकार ने उन्हें कितना समर्थन दिया. हम चाहते हैं कि भारतीय निजी क्षेत्र की कंपनियां अच्छा प्रदर्शन करें, और भारत के रणनीतिक हितों को बढ़ावा दें.

पढ़ें- 'CBI के डंडे से सबको डराने वाले नरेंद्र मोदी अब खुद डरे हुए हैं'

डोभाल ने कहा कि हम चाहते हैं कि भारतीय प्राइवेट सेक्टर कंपनियों को भी भारतीय रणनीतिक हितों को पूरा करना और बढ़ावा देना चाहिए. सरकारों के पास अपना बहुमत होना आवश्यक होता है जिससे मजबूती से काम किया जा सके. डोभाल ने तेल की बढ़ती कीमतों पर भी बात करते हुए कहा कि कच्चे तेल की कीमतों में बढ़ोतरी हमारे लिए संकट है लेकिन देश को उसका सामना करना ही पड़ेगा. 

First published: 25 October 2018, 18:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी