Home » इंडिया » Odd even policy decrease the Delhi pollution level: Report Says
 

ऑड-ईवन योजना के दौरान प्रदूषण में आई 18 फीसदी कमी: रिपोर्ट

कैच ब्यूरो | Updated on: 19 January 2016, 18:41 IST

दिल्ली में प्रयोग के तौर बहुचर्चित ऑड-ईवन फार्मूले से जुड़े आंकड़ें अब सामने आने लगे हैं. शिकागो और हावर्ड यूनिवर्सिटी से जुड़े एक रिसर्च समूह ने दावा किया है कि 1-15 जनवरी के बीच दिल्ली के प्रदूषण में 18 फीसदी तक कमी आई है.

रिपोर्ट के मुताबिक इस दौरान दिल्ली और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में पिछले महीने की तुलना में प्रदूषण में वृद्धि दर्ज की गई लेकिन यह वृद्धि मामूली थी. इसके बढ़ने की दर बहुत कम हो गई था.

पढ़ें: ऑड-ईवन फॉर्मूले पर दिल्ली सरकार के साथ सुप्रीम कोर्ट

शिकागो यूनिवर्सिटी की एनर्जी पॉलिसी इंस्टीट्यूट और हॉवर्ड यूनिवर्सिटी के एविडेंस फॉर पॉलिसी डिजाइन ग्रुप की संयुक्त रिपोर्ट में बताया गया है कि जनवरी के एक से 15 तारीख के बीच दिल्ली में दोपहर के समय में प्रदूषण के स्तर में तेज गिरावट दर्ज की गई है.

रिपोर्ट के अध्ययन के मुताबिक ऑड-ईवन फार्मूला जिन घंटों में प्रबावी रहा उन घंटों मेें प्रदूषण की स्थिति काफी नियंत्रण में रही. इस नियम के लागू होने के घंटों में दिल्ली के प्रदूषण और उसके पड़ोसी क्षेत्रों के प्रदूषण में आधी रात तक काफी अंतर बना रहा.

इस रिपोर्ट के कई आंकड़े केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड और इंडिया स्पीड डाटा के अध्ययन पर आधारित हैं. ऑड-ईवन पॉलिसी के लागू होने के समय यानी सुबह 8 बजे से रात 8 बजे के बीच में वायु में धूल कणों की मात्रा (पीएम 2.5) औसतन 18 फीसदी रही है और 24 घंटे में यह औसतन 10 से 13 फीसदी रहा.

पढ़ें: दिल्ली हाईकोर्ट: ऑड-इवेन के लिए 15 दिन क्यों?

पीटीआई को ईपीआईसी-इंडिया के निदेशक अनंत सुदर्शन ने बताया, 'जैसा कि सभी समझ रहे थे रात 8 बजे के बाद इस नियम का कोई प्रभाव नहीं रहेगा, ऐसे में 24 घंटे में प्रदूषण का औसत, तय सीमा की तुलना में कम रहा.'

दिल्ली और इसके पड़ोसी क्षेत्रों फरीदाबाद, गुड़गांव और नोएडा के आंकड़ों का तुलनात्मक अध्ययन करने से यह पता चलता है दिल्ली और इसके पड़ोसी क्षेत्रों का मौसम एक समान है और दिल्ली एनसीआर में प्रदूषण के बढ़ने का सबसे मुख्य कारण इसके पड़ोसी राज्यों के किसानों के द्वारा फसलों की कटाई के बाद बचे अवशेषों को खेतों में जलाना हैं.

ऑड-ईवन फार्मूले को तहत दिल्ली सरकार ने एक जनवरी से 15 जनवरी तक 15 दिनों के लिए वाहनों को रजिस्ट्रेशन नंबर के ऑड-ईवन आधार पर सड़कों पर चलाने का नियम बनाया था. जो अब समाप्त हो चुका है.

दिल्ली सरकार ऑड-ईवन फार्मूले को दसवीं की परीक्षा खत्म होने के बाद मार्च-अप्रैल में फिर से लागू कर सकती है.

पढ़ें: दुनिया के 15 सबसे प्रदूषित शहरों में 10 भारत में

पढ़ें: लंदन-मैक्सिको से क्या सबक ले सकती है दिल्ली

First published: 19 January 2016, 18:41 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी