Home » इंडिया » odisha govt ordered to enquiry the incidence of the men taking his dead wife on shoulder
 

ओडिशा सरकार ने मृत पत्नी के शव को कंधे पर ढोने वाली घटना की जांच के दिए आदेश

कैच ब्यूरो | Updated on: 26 August 2016, 11:13 IST
(एजेंसी)

ओड़िशा सरकार ने कालाहांडी में आदिवासी दाना मांझी के द्वारा 10 किलोमीटर तक अपनी पत्नी के शव को कंधे पर ढोने की घटना के जांच के आदेश दिए हैं. राज्य सरकार की ओऱ से इस बात की जांच के आदेश दिए गए हैं कि किन परिस्थितियों में मांझी को अपनी पत्नी का शव कंधे पर रखकर ले जाना पड़ा.

कालाहांडी जिले के रहने वाले राज्य के शहरी विकास मंत्री पुष्पेंद्र सिंह देव ने भुवनेश्वर में कहा, "कालाहांडी के जिला कलेक्टर ने घटना की जांच के आदेश दिए हैं. भवानीपटना के सब-कलेक्टर को जांच करने और जल्द से जल्द रिपोर्ट देने के निर्देश दिए गए हैं."

एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, "सब-कलेक्टर सुकांत त्रिपाठी से यह पता लगाने को कहा गया है कि क्या दाना माझी को अपनी पत्नी का शव ले जाने के लिए बीते बुधवार को अस्पताल के द्वारा वाहन देने से इनकार किया गया था."

यह घटना बुधवार को उस वक्त हुई जब स्थानीय लोगों ने मांझी को अपनी पत्नी अमांग देई का शव कंधे पर ले जाते देखा. माझी के साथ उसकी 12 साल की बेटी भी थी. माझी की 42 साल की पत्नी की मौत भवानीपटना के सदर अस्पताल में टीबी के कारण हो गई थी.

वहीं दूसरा ओर इस मामले में चौतरफा आलोचना झेल रहे मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने गुरुवार को ‘महाप्रयाण’ योजना की शुरुआत की. किसी शव को अस्पताल से मृतक के घर तक ले जाने के लिए इस योजना की शुरूआत की गई है.

इस योजना की घोषणा छह महीने पहले की गई थी. हरिशचंद्र योजना की सफलता के मद्देनजर महाप्रयाण योजना की शुरुआत की गई है.

पटनायक ने कहा कि हरिश्चंद्र योजना के तहत गरीबों को शव के अंतिम-संस्कार के लिए वित्तीय सहायता दी जाती है, जबकि महाप्रयाण योजना के तहत शव को अस्पताल से मृतक के घर तक पहुंचाया जा सकेगा.

First published: 26 August 2016, 11:13 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी