Home » इंडिया » On Independence day celebration London returned Buddha statue stolen from india 60 years ago
 

स्वतंत्रता दिवस पर लंदन ने लौटाई भारत को प्राचीन बुद्ध प्रतिमा, 60 साल पहले हुई थी चोरी

कैच ब्यूरो | Updated on: 16 August 2018, 12:00 IST
(Imaginary photo)

ब्रिटिश हुकूमत से आजादी ने 72 सालों के जश्न के मौके पर ब्रिटेन ने भारत से चुराई बुद्ध की प्रतिमा को वापस भारत के हवाले कर दिया. ब्रिटेन ने भारत से चोरी कर ले जाई गई भगवान बुद्ध की कांस्य प्रतिमा को लौटा दिया है. ये प्रतिमा पुरातात्विक महत्व की एक बड़ी प्रतिमा है. ये प्रतिमा बिहार के नालंदा के एक संग्रहालय से करीब 60 साल पहले चोरी हो गई थी.

पीटीआई की रिपोर्ट के मुताबिक बुद्ध प्रतिमा 12वीं सदी की है. 72वें स्वतंत्रता दिवस समारोह के दौरान लंदन मेट्रोपोलिटन पुलिस ने इसे भारत को लौटा दिया है.


क्यों खास है मूर्ति ?

भगवान बुद्ध की इस मूर्ती में चांदी की कलमकारी की गई है. ये मूर्ती उन मूर्तियों में से एक है जिन्हें 1961 में नालंदा में भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण संस्थान के एक संग्रहालय से चुराया गया था. इस संग्रहालय से कुल 14 मूर्तियां चुराई गई थीं.

ब्रिटेन में इस मूर्ती की नीलामी होने वाली थी. लेकिन जब इस मूर्ती की सच्चाई सामने आई तो नीलामीकर्ताओं ने पुलिस की कला एवं पुरावशेष इकाई के साथ सहयोग करके इसे भारत को लौटाने की प्रक्रिया पर राजी हो गए.

तिरंगे की रोशनी से जगमगाया पाकिस्तान, फोटोज़ में देखें कैसे मना भारत की आज़ादी के 72 सालों का जश्न

इस मूर्ती की सच्चाई सामने लाने का श्रेय 'एसोसिएशन फोर रिसर्च इंटू क्राइम्स एगेंस्ट' की लिंडा अल्बर्टसन और 'इंडिया प्राइड प्रोजेक्ट' के विजय कुमार को जाता है. जिन्होंने इस मूर्ती को एक व्यापार मेले में देखा और पुलिस को सूचना दी.

15 अगस्त को स्कॉटलैंड यार्ड में भारत की आजादी का जश्न मनाया गया. इस कार्यक्रम में मौजूद भारत के राजदूत वाईके सिन्हा को ये मूर्ती सौंपी गई. ब्रिटेन के कला, धरोहर एवं पर्यटन मंत्री माइकल एलीस ने कला एवं पुरावशेष इकाईकी सराहना की. ब्रिटेन के इस कदम के बारे में सिन्हा ने कहा कि ‘अनमोल बुद्ध’ की मूर्ति लौटाया जाना एक अच्छा कदम है.

मोदी सरकार ने चीन में भारतीय नोटों के छपने की खबर को बताया अफवाह

First published: 16 August 2018, 8:32 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी