Home » इंडिया » on kairana issue committee submitted report to akhilesh yadav
 

कैराना पलायन विवाद: संतों की टीम ने सीएम अखिलेश यादव को सौंपी रिपोर्ट

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 February 2017, 1:49 IST
(एजेंसी)

उत्तर प्रदेश की समाजवादी पार्टी की सरकार के द्वारा कैराना के पलायन विवाद की जांच के लिए गठित संतों की पांच सदस्यीय टीम ने गुरुवार को मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को अपनी रिपोर्ट सौंप दी है.

संतों की रिपोर्ट में इस घटना को सांप्रदायिक सद्भाव बिगाडने की खतरनाक साजिश करार दिया गया है. संतों की टीम में शामिल आचार्य प्रमोद ने कहा कि हमने गोपनीय रिपोर्ट मुख्यमंत्री को सौंप दी है.

कैराना घटना सांप्रदायिक सदभाव बिगाडने की खतरनाक साजिश है. दोषियों के खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए.

इस टीम में प्रमोद कृष्णन, स्वामी कल्याण, नारायण गिरि, स्वामी चिन्मयानंद और स्वामी चक्रपाणि शामिल थे. यह टीम 20 जून को कैराना गई थी और उसके बाद जांच रिपोर्ट तैयार की.

इस टीम को सपा के वरिष्ठ नेता शिवपाल यादव ने 17 जून को गठित किया था. शिवपाल यादव ने उस समय प्रेस कॉन्फ्रेंस करके कहा था कि ये लोग गैर राजनीतिक हैं और पूरी घटना की निष्पक्ष तस्वीर पेश करेंगे. सपा ने पलायन के आरोपों का पहले ही खंडन किया था.

समाजवादी पार्टी ने बीजेपी पर आरोप लगाया है कि 2017 के विधानसभा चुनाव को ध्यान में रखकर वह राज्य का सांप्रदायिक माहौल बिगाडना चाहती है.

कैबिनेट मंत्री शिवपाल सिंह यादव ने कहा, "कैराना में या राज्य में कहीं भी कोई पलायन नहीं हुआ है. हमारे पास खुफिया और अन्य रिपोर्ट भी है. हुकुम सिंह सहित भाजपा नेता सांप्रदायिक भावनाएं भड़का रहे हैं. वे केवल राजनीतिक फायदे के लिए ऐसा काम कर रहे हैं."

First published: 24 June 2016, 12:20 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी