Home » इंडिया » On NRC issue Bangladesh says over 40 lakh people india should solve its matter we are not involved
 

NRC पर बांग्लादेश ने 40 लाख लोगों से पल्ला झाड़ा कहा- अपना मसला खुद सुलझाए भारत !

कैच ब्यूरो | Updated on: 1 August 2018, 11:36 IST

असम में जारी हुए एनआरसी ड्राफ्ट ने पूरे देश में खलबली मचा दी है. सरकार ने इसमें 40 लाख लोगों के नाम को नहीं जोड़ा है. ये 40 लाख लोग बांग्लादेश के बताए जा रहे थे. इस मामले में सरकार की सख्ती को देखते हुए बांग्लादेश की तरफ से पहली बार कोई बयान आया है. भारत सरकार ने इस मामले में बहुत ही सख्त रुख अपनाते हुए कहा है कि भारत सिर्फ भारतीय नागरिकों को ही देश में रहने का अधिकार देगा। किसी को भी अवैध रूप से यहां रहने का अधिकार नहीं मिलेगा.

ये भी पढ़ें- NRC: अन्य राज्यों में न कर सकें प्रवेश इसलिए लिया जाएगा 40 लाख लोगों का बायोमेट्रिक रिकॉर्ड

इस मामले में मची सियासी हलचल पर पहली बार बांग्लादेश की तरफ से कोई बयान आया है. बांग्लादेश के सूचना प्रसारण मंत्री हसन उल हक इनु ने इस मामले में कहा, ''ये भारत का आंतरिक मामला है, इसमें हमारा कोई लेना-देना नहीं है. उन्होंने कहा कि असम में कोई भी बांग्लादेशी घुसपैठिए नहीं हैं, जो लोग वहां रह रहे हैं वह काफी लंबे समय से रह रहे हैं.''

बांग्लादेश ने कहा है कि इस मामले से उनका कोई लेना देना नहीं है. ये भारत का अपना मसला है इससे उनका कोई लेना देना नहीं है. ये मामला भारत को खुद ही सुलझाना होगा. साथ ही उन्होने कहा कि अवैध रूप से रहने वाले शरणार्थियों का वो विरोध करते हैं.

गौरतलब है कि असम में राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) का अंतिम ड्राफ्ट जारी कर दिया गया है. जिसमे करीब 40 लाख लोग अवैध पाए गए हैं.

ये भी पढ़ें- असम: NRC ड्राफ्ट में पूर्व राष्ट्रपति के परिवार का नाम नदारद

First published: 1 August 2018, 11:36 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी