Home » इंडिया » Delhi Serial Blasts Case One Convicted, Two Acquitted in the 2005
 

दिल्ली सीरियल ब्लास्ट: तारिक अहमद दोषी, दो आरोपी बरी

कैच ब्यूरो | Updated on: 16 February 2017, 5:34 IST
court

देश की राजधानी दिल्ली में 12 साल पहले हुए सीरियल ब्लास्ट के मामले में अदालत ने अपना फैसला सुना दिया है. कोर्ट ने तीन आरोपियों में से दो को बरी करते हुए तारिक अहमद डार को दोषी माना है. तारिक को 10 साल की सजा सुनाई गई है.

हालांकि, तारिक पहले ही 13 साल की सजा काट चुका है. 2005 में दिवाली से एक दिन पहले हुए इन धमाकों में 60 लोगों की मौत हो गई थी जबकि 200 से ज्यादा लोग घायल हुए थे. इन धमाकों के पीछे आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा का हाथ था. 

दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट के अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश रितेश सिंह इस मामले में बृहस्पतिवार को फैसला सुनाया. इस मामले में तारिक अहमद डार, मोहम्मद हुसैन फाजिल और मोहम्मद रफीक शाह अभियुक्त थे. ब्लास्ट का कथित मास्टरमाइंड तारिक अहमद डार को बताया जाता है, जोकि लश्कर-ए-तैयबा का संदिग्ध ऑपरेटिव है.

कोर्ट ने 2008 में डार और अन्य दो अभियुक्तों पर देश के खिलाफ युद्ध छेड़ने, साजिश रचने, हथियार जुटाने, हत्या और हत्या के प्रयास के आरोप तय किए थे. पटियाला हाउस कोर्ट में दाखिल दिल्ली पुलिस की चार्जशीट के मुताबिक डार के कॉल डिटेल से साबित हुआ है कि वह लश्कर-ए-तैयबा के अपने आकाओं के संपर्क में था.

दिल्ली पुलिस ने अक्टूबर 2005 में तीन जगहों- सरोजनी नगर, कालकाजी और पहाड़गंज में हुए धमाकों के मामले में तीन अलग-अलग एफआईआर दर्ज की थीं.

First published: 16 February 2017, 5:34 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी