Home » इंडिया » One dead, 290 taken ill in Andhra Pradesh due to mysterious disease
 

आंध्र प्रदेश में फैल रही रहस्यमयी बीमारी, 290 मरीज आए सामने, एक व्यक्ति की हुई मौत, डॉक्टर भी है हैरान

कैच ब्यूरो | Updated on: 7 December 2020, 0:05 IST
(PTI)

आंध्र प्रदेश के एलुरु में एक रहस्यमयी बीमारी लोगों को अपनी चपेट में ले रही है. इस रहस्यमयी बीमारी के चपेट में आने से 292 लोग बीमार हो गए हैं जबकि एक व्यक्ति की मौत हो गई है. दूसरी तरफ मरीजों की संख्या में लगातार बढ़ोतरी हो रही है. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, एलुरु स्थित सरकारी अस्पताल के सुपरीटेंडेंट डॉक्टर मोहन ने बताया कि 140 से अधिक लोग इस बीमारी के चपेट में आने के बाद अस्पताल में आ, जिसके बाद उन्हें उपचार के बाद डिस्चार्ज कर दिया गया है.

न्यूज एजेंसी पीटीआई की रिपोर्ट के अनुसार, राज्य के पश्चिम गोदावरी जिले के चिकित्सा और स्वास्थ्य अधिकारियों ने बताया कि 140 से अधिक मरीज अस्पताल में इलाज के बाद घर लौट आए हैं, जबकि अन्य की हालत स्थिर है. हालांकि, अभी तक यह पता नहीं लग पाया है कि आखिर ये लोग किस बीमारी की चपेट में आए थे जिसके चलते इन्हें चक्कर और मिचली आने लगी और वो बेहोश हो गए.


विजयवाड़ा के सरकारी सामान्य अस्पताल में भर्ती एक 45 वर्षीय व्यक्ति को मिचली और मिर्गी के लक्षणों के कारण भर्ती किया गया था, जहां उसकी मृत्यु हो गई. अधिकांश लोग कुछ ही मिनटों में ठीक हो गए थे लेकिन बेहतर इलाज के लिए रविवार को कम से कम सात को सरकारी अस्पताल में भेज दिया गया. पीड़ितों के इलाज के लिए डॉक्टरों की विशेष टीम को एलुरु ले जाया गया है, जबकि संभावित रोगियों की पहचान के लिए घर-घर सर्वेक्षण किया गया है.

राज्य के स्वास्थ्य आयुक्त कटमनेनी भास्कर भी स्थिति का जायजा लेने और उपचार की निगरानी के लिए एलुरु पहुंचे. रहस्यमयी बीमारी के फैलने पर चिंता व्यक्त करते हुए, राज्य के राज्यपाल विश्वासभान हरिचंदन ने स्वास्थ्य अधिकारियों को पीड़ित व्यक्तियों को उचित दवा सुनिश्चित करने का निर्देश दिया है.

दूसरी तरफ मुख्यमंत्री वाई एस जगन मोहन रेड्डी ने सोमवार को एलुरु में जीजी अस्पताल का दौरा किया और बाद में पश्चिम गोदावरी जिले के अधिकारियों के साथ एक समीक्षा बैठक आयोजित की है. राज्य के उपमुख्यमंत्री (स्वास्थ्य) ए के के श्रीनिवास (नानी), जो एलुरु का प्रतिनिधित्व करते हैं, ने कहा कि प्रदूषित पानी पीने के कारण लोग अज्ञात बीमारी की चपेट में नहीं आए हैं. वहीं नानी ने रविवार को फिर से अस्पताल का दौरा किया और स्थिति की समीक्षा की और कहा कि घबराने की जरूरत नहीं है.

राज्य के मुख्य सचिव नीलम साहनी से बात करने वाले भाजपा सांसद जीवीएल नरसिम्हा राव ने कहा कि यहां एम्स के डॉक्टरों की पांच सदस्यीय टीम मरीजों का इलाज करने के लिए एलुरु जा रही थी. राव ने कहा कि उन्होंने एम्स, दिल्ली के निदेशक रणदीप गुलेरिया और रहस्यमय बीमारी के अन्य विशेषज्ञों से बात की और उन्होंने पश्चिम गोदावरी के जिला चिकित्सा अधिकारियों से भी बात की.

इस बीच, स्वास्थ्य अधिकारी अभी तक अचानक बीमारी का कारण नहीं बना सके, हालांकि रक्त परीक्षण और सीटी स्कैन किए गए थे. माना जा रहा है कि आने वाले दिनों में और जांच के बाद स्थिति स्पष्ट हो पाएगी.

बेटी ने मां पर किया 100 बार चाकुओं से हमला, सर धड़ से किया अलग, पुलिस से पूछा- वापस जुड़ जाएगा?

First published: 6 December 2020, 23:01 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी