Home » इंडिया » only two indian educational institutions in worlds top 200 universities
 

भारत कैसे करेगा अमेरिका से मुकाबला, टॉप 200 में अमेरिका के 49 भारत के 2 विश्वविद्यालय

कैच ब्यूरो | Updated on: 3 April 2018, 8:53 IST

एक सर्वे में पता चला है कि विश्व के शीर्ष 200 विश्वविद्यालयों में देश के महज दो संस्थान अपनी जगह बनाने में कामयाब हुए हैं. ये संस्थान आईआईटी दिल्ली और दिल्ली विश्वविद्यालय हैं. वहीं अमेरिका के 49 संस्थान इसमें जगह बनाने में कामयाब हुए हैं. इस पर उद्योग संगठन एसोचैम और यस इंस्टीट्यूट के साझा अध्ययन में कहा गया है कि शीर्ष वैश्विक प्रचलन से सीख लेना अब देश के लिए जरूरी हो गया है.

सर्वे के मुताबिक टॉप 200 संस्थानों में अमेरिका के 49, ब्रिटेन के 30, जर्मनी के 11 और चीन एवं ऑस्ट्रेलिया के आठ-आठ संस्थानों को इस लिस्ट में जगह मिली है.

 

एसोचैम के अध्ययन में कहा गया कि इसका कारण है कि मेधावी छात्र अध्ययन और शोध के लिए विकसित देशों में चले जाते हैं और दूसरे देशों में बौद्धिक एवं आर्थिक मूल्यों का योगदान देते हैं. सर्वे के मुताबिक, लगभग छह लाख भारतीय छात्र विदेश में पढ़ रहे हैं और उन देशों में सालाना 13 खरब रुपये से अधिक खर्च कर रहे हैं.

 

वहीं सिर्फ 16 परसेंट भारतीय कंपनियां संस्थान के भीतर ही प्रशिक्षण देती हैं, जबकि चीन में यह 80 फीसद हैं. अध्ययन में कहा गया कि भारत में स्नातक करने के बाद भी बहुत कम लोग रोजगार के लायक होते हैं. राष्ट्रीय रोजगार रिपोर्ट 2013 के अनुसार, साइंस-कॉमर्स समेत सभी शैक्षणिक वर्गो में रोजगार की योग्यता 25 फीसद से भी कम है.

पढ़े- भारत बंद: मायावती ने SC/ST एक्ट के विरोध में हो रही हिंसा पर दिया बड़ा बयान

अध्ययन में कहा गया कि भारतीय उच्च शिक्षा जगत रोजगार के अल्प स्तर, शोध की कमी तथा नवाचार एवं उद्यमिता की सीमित संभावनाओं जैसी समस्याओं से जूझ रहा है. इससे उबरने के लिए उच्च शिक्षा प्रणाली को उभरती आर्थिक वास्तविकताओं तथा उद्योग जगत की जरूरतों के अनुकूल बनाने के साथ ही सुसंगठित एवं भविष्य आधारित शैक्षणिक रूपरेखा तैयार करना आवश्यक है.

First published: 3 April 2018, 8:53 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी