Home » इंडिया » Operation Clean Money-II: 60000 people under Income Tax department scanner
 

'नोटबंदी' के बाद अब 'प्रॉपर्टी बंदी' करेगा आयकर विभाग!

कैच ब्यूरो | Updated on: 14 April 2017, 11:29 IST

काले धन का पता लगाने के लिए आयकर विभाग ने एक और बड़ा अभियान छेड़ दिया है. इसके तहत आईटी ने ऑपरेशन क्लीन मनी के नाम से शुक्रवार को मुहिम शुरू की है. नोटबंदी के बाद ब्लैक मनी के खिलाफ अभियान के इस दूसरे चरण में आयकर विभाग की नजर 60 हजार लोगों पर है.

आयकर विभाग की नीति निर्धारक संस्था सेंट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्ट टैक्सेज (सीबीडीटी) का कहना है कि नौ नवंबर के बाद से लेकर इस साल 28 फरवरी तक उसने 9934 करोड़ की अघोषित आय का पता लगाया है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 8 नवंबर 2016 को पांच सौ और एक हजार के पुराने नोटों को बंद करने का एलान किया था. 

कौन हैं ये 60 हजार लोग? 

जो 60 हजार लोग आयकर विभाग की जांच के दायरे में हैं, उनमें से 1300 लोग हाई रिस्क कैटेगरी में हैं. इन लोगों ने नोटबंदी के दौरान कैश के जरिए बड़े पैमाने पर खरीदारी की है. महंगी प्रॉपर्टी खरीदने के 6600 मामलों में हुआ 6000 कैश लेन-देन आयकर विभाग के रडार पर है. ऑपरेशन क्लीन मनी-II के तहत इन सभी लेन-देन की विस्तार से जांच होगी.

सीबीडीटी के मुताबिक जिन मामलों की जांच में आयकर विभाग को कोई जवाब नहीं मिलेगा, उनकी भी पूरी तरह से जांच-परख की जाएगी. एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक ऑपरेशन से पहले एडवांस डाटा एनालिटिक्स के जरिए कैश जमा करने वाले संदिग्ध लोगों की पहचान की जा रही है.

माना जा रहा है कि नोटबंदी के बाद काफी लोगों ने अपना काला धन रियल एस्टेट में लगाकर महंगी प्रॉपर्टी खरीदी है. ऐसे में आयकर विभाग उन पर नकेस कसने की तैयारी कर रहा है. 

First published: 14 April 2017, 11:27 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी