Home » इंडिया » Pakistan ceasefire violating in Nowshera Jammu Kashmir one army person killed
 

जम्मू-कश्मीर: नौशेरा में पाकिस्तान ने फिर की फायरिंग, एक जवान शहीद, भारत ने की जवाबी कार्रवाई

कैच ब्यूरो | Updated on: 23 October 2019, 10:27 IST

भारत और पाकिस्तान के बीच सुलह का कोई रास्ता दिखाई नहीं दे रहा है. जिसकी वजह खुद पाकिस्तान है. दरअसल, पाकिस्तान लगातार भारत के खिलाफ जहर उगल रहा है. जिसके लिए वह आए दिन कोई ना कोई चाल चल रहा है और अपनी नापाक हरकतों से बाज नहीं आ रहा.

पाकिस्तान की ओर से लगातार बॉर्डर पर फायरिंग और सीजफायर की घटनाओं को अंजाम दिया जा रहा है. पाकिस्तान शनिवार से लगातार जम्मू-कश्मीर में गोलीबारी कर रहा है. मंगलवार को पाकिस्तान की ओर से अवंतीपोरा में गोलीबारी की गई. जिसका भारतीय सेना ने मुंहतोड़ जवाब दिया. जिसमें तीन आतंकी मारे गए. उसके बाद बुधवार रात भी पाकिस्तान ने जम्मू-कश्मीर के नौशेरा में गोलीबारी की जिसमें भारतीय सेना का एक जवान शहीद हो गया.

उसके बाद भारतीय जवानों ने भी जमकर गोलियां बरसाईं. इसके अलावा पाकिस्तान ने सीजफायर का उल्लंघन करते हुए पुंछ के मेढर सेक्टर में फायरिंग की और भारतीय चौकियों को निशाना बनाया. यही नहीं पाकिस्तान ने रिहायशी इलाको में भी गोले बरसाए, जिसमें कुछ नागरिकों के घायल होने की खबर है.

 

गौरतलब है कि पाकिस्तान की ओर से सोमवार रात को भी फायरिंग की गई. रात एक बजे तक हीरानगर सेक्टर में गोलीबारी के बाद मंगलवार सुबह से पाकिस्तान ने फिर से एलओसी के अलग-अलग इलाको में गोलीबारी की. हालांकि, भारत की ओर से जवाबी कार्रवाई से बचने के लिए पाकिस्तान ने सोमवार को भारत से सीमा पर गोलीबारी ना करने की अपील की थी, लेकिन खुद ही लगातार सीजफायर का उल्लंघन कर रहा है.

मंगलवार को अवंतीपोरा में भारतीय सेना की जवाबी कार्रवाई में मारे गए तीन आतंकियों पहचान हो गई हैं. न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक, तीनों आंतकियों के नाम नावीद टाक, हामिद लोन उर्फ हामिद लैलहरी और जुनैद भट है तीनों के पास से भारी मात्रा में विस्फोट पदार्थ बरामद हुए हैं. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा है कि भारत पहले आक्रमण नहीं करता है, लेकिन हमले की सूरत में मुकम्मल जवाब देता है.

ये भी पढ़ें-

भारतीय सेना की कार्रवाई में मारे गए 20 आतंकी और 16 पाक सैनिक : रिपोर्ट

कमलेश तिवारी हत्याकांड: गुजरात से पकड़े गए दो मुख्य आरोपी, मां बोलीं- हत्यारों को फांसी हो

First published: 23 October 2019, 10:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी