Home » इंडिया » Pakistan handed over Indian Army Sepoy Chandu Babulal Chohan, who inadvertently crossed the LoC on 29 Sep 2016
 

पाकिस्तान ने एलओसी पार करने वाले भारतीय जवान चंदू चव्हाण को रिहा किया

कैच ब्यूरो | Updated on: 21 January 2017, 16:46 IST

बीते साल भारत द्वारा पाकिस्तान पर सर्जिकल स्ट्राइक के बाद गलती से लाइन ऑफ कंट्रोल (एलओसी) पार करके पाकिस्तान पहुंचे भारतीय सेना के जवान चंदू बाबूलाल चव्हाण को शनिवार को रिहा कर दिया गया. शनिवार दिन में पाकिस्तान ने उसे रिहा करने की आधिकारिक घोषणा की थी और शाम को उसे रिहा भी कर दिया. चंदू की रिहाई को लेकर भारतीय सुरक्षा एजेंसियां काफी वक्त से कोशिशों में जुटी हुईं थीं.

जानकारी के मुताबिक भारतीय सेना का 22 वर्षीय जवान चंदू बाबूलाल चव्हाण 37 राष्ट्रीय राइफल में तैनात था. महाराष्ट्र के धूलिया जिले के बोरविहीर गांव का का चंदू सर्जिकल स्ट्राइक के दौरान कश्मीर में नियंत्रण रेखा पर तैनात था. चंदू का गांव भारत के रक्षा राज्यमंत्री के निर्वाचन क्षेत्र में ही है.

चंदू की रिहाई के लिए हाल ही में दोनों देशों के डीजीएमओ स्तर की बातचीत हुई थी. इसकी जानकारी खुद रक्षा राज्यमंत्री सुभाष भामरे ने दी थी. पिछले साल 29 सितंबर को सर्जिकल स्ट्राइक के दिन चंदू के एलओसी पार चले जाने की खबरें सामने आई थीं. तब भारतीय सेना ने पाकिस्तानी सेना के डीजीएमओ को इस बात की जानकारी दी थी.

हालांकि बाद में कुछ रिपोर्ट्स में पाकिस्तानी सेना ने चंदू के पकड़े जाने की बात से इनकार कर दिया था. चंदू के पाकिस्तान चले जाने की खबर जानने के बाद उसकी दादी की मौत हो गई थी.

पाकिस्तान ने वाघा बॉर्डर पर चंदू को भारत को सौंपा. इससे पहले शनिवार को पाकिस्तान ने यह आरोप भी लगाया था कि "चंदू सीनियर अफसरों के गलत बर्ताव से नाराज होकर एलओसी पार चला आया था." 29 सितंबर 2016 को उसने जानबूझकर नियंत्रण रेखा पार की और खुद को सरेंडर किया था.

वहीं, चंदू की रिहाई के बाद उसके परिजनों ने खुशी जताते हुए दोनों देशों का आभार जताया.

First published: 21 January 2017, 16:46 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी