Home » इंडिया » Pakistan have may forged indian afghan visa, terrorist might use this to enter India
 

इस तरीके से पाकिस्तान भारत में भेजता है खूंखार आतंकी, छापेमारी में हुआ खुलासा

कैच ब्यूरो | Updated on: 7 December 2018, 14:47 IST

पाकिस्तान की एक प्रिंटिंग प्रेस में हुई छापेमारी के दौरान भारत और अफगानिस्तान सरकार के फर्जी स्टांप बरामद हुए हैं. इसके साथ ही पाकिस्तान की प्रिंटिंग प्रेसस में कई आपत्तिजनक दस्तावेजों के साथ ही तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान (टीटीपी) का साहित्य भी बरामद हुआ है. एक्सप्रेस ट्रिब्यून की खबर के अनुसार पाकिस्तान में पुलिस ने यूसफजाई प्रिंटिंग प्रेस में छापा मारा. प्रिंटिंग प्रेस में चल रही गैरकानूनी गतिविधियों की खबर मिलने के बाद पुलिस ने यहां छापा मारा.

पुलिस ने ये छापा पाकिस्तान के खैबर-पख्तूनख्वा की एक प्रिंटिंग प्रेस मारा. अखबार में इस गैरकानूनी गतिविधियों के बारे में खबर छापी है. अखबार में थाना प्रभारी मुहम्मद नूर खान के हवाले से कहा गया है, ‘‘पुलिस ने पुराने शहर में किस्साख्वानी बाजार में एक प्रिंटिंग प्रेस से अफगान और भारत सरकारों के फर्जी दस्तावेज और स्टांप के साथ टीटीपी का साहित्य जब्त किया.’’

पुलिस ने जानकारी मिलने के बाद छापेमारी करके प्रेस के मालिक कारी सैफ उल्लाह को गिरफ्तार किया है. इस मामले में पुलिस की पूछताछ जारी है. जानकारी के अनुसार शुरूआती जांच के बाद इस प्रेस पर और प्रेस मालिक पर आरोप तय किये जाएंगे.

ये भी पढ़ें- पाकिस्तान को बुरे वक़्त में मिला भारत के इस विरोधी देश का साथ, PM मोदी की बढ़ सकती है चिंता !

वहीं इस मामले में स्पष्टीकरण देते हुए स्टेशन हाउस ऑफिसर (एसएचओ) मुहम्मद नूर खान ने मीडिया को बताया, "पुलिस ने कश्यखवाणी बाजार के पुराने शहर क्षेत्र में एक प्रिंटिंग प्रेस से टीटीपी के साहित्य के अलावा अफगान और भारत सरकार के जाली दस्तावेजों और टिकटों को बरामद किया."

पाकिस्तान के इस प्रिंटिंग प्रेस में हुई छापेमारी से एक बाड़ी साजिश का खुलासा हो गया है. छापेमारी में जब्त किये गए दस्तावेजों के आधार पर ये अनुमान लगाया जा रहा है कि इन फ़र्ज़ी मुहरों और वीजा का इस्तेमाल पाकिस्तान आतंकियों और अपराधियों को पासपोर्ट जारी करने के लिए करता है. फ़र्ज़ी भारतिया नागरिक बताकर आतंकियों को बॉर्डर पार कराने में भी इन दस्तावेजों का इस्तेमाल किये जाने की आशंका है.

First published: 7 December 2018, 12:28 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी