Home » इंडिया » Pakistan: ISI giving training of terrorism to Rohingyas in Myanmar
 

रोहिंग्याओं को आतंकवाद की ट्रेनिंग दे रहा ISI, पाकिस्तान की गहरी साजिश का खुलासा

कैच ब्यूरो | Updated on: 16 August 2020, 13:16 IST

Pakistan: पाकिस्तान अपनी घटिया हरकतों से बाज नहीं आ रहा है. इस बीच खुलासा हुआ है कि रोहिंग्याओं को पाकिस्तान आतंकवाद की ट्रेनिंग दे रहा है. खुलासा हुआ है कि पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई (ISI) म्यांमार में रोहिंग्याओं को आतंकवादी समूहों को ट्रेनिंग दे रही है. इसका मकसद भारत में आतंकी गतिविधियों को बढ़ावा देना है.

ब्रसेल्स में दक्षिण एशिया डेमोक्रेटिक फोरम के रिसर्च डायरेक्टर डॉ. सीगफ्राइड ओ वुल्फ ने खुलासा किया है कि जमात उल मुजाहिदीन बांग्लादेश (JMB) 40 रोहिंग्याओं को आतंकवाद की ट्रेनिंग दे रहा है, इसमें ISI की संलिप्तता है. उन्होंने अंदेशा जताया कि आतंकवाद को पाल-पोस कर पाकिस्तान अफगानिस्तान तथा भारत में हमला कराकर क्षेत्रीय अस्थिरता पैदा कर सकता है.

बता दें कि जेएमबी ने साल 2016 में ढाका के एक कॉफी शॉप में हमला किया था. इस हमले में 22 लोगों ने अपनी जान गंवाई थी. ज्यादातर मरने वालों में विदेशी थे. इस आतंकी संगठन की हरकतों की वजह बांग्लादेश के कॉक्स बाजार में रोहिंग्या शरणार्थी शिविर आतंकियों के निशाने पर आ चुके हैं, क्योंकि यह म्यांमार की सीमा पर है.

राम मंदिर का समर्थन करने पर कमलनाथ की सोनिया गांधी से हुई थी शिकायत, अब दी ये सफाई

इस मसले पर बांग्लादेश के सुरक्षा विशेषज्ञ बताते हैं कुछ समय से चरमपंथी रोहिंग्याओं की आतंकी गतिविधियों में संलिप्तता रही है. हालांकि बांग्लादेश ने उन्हें इन आतंकी गतिविधियों को अंजाम देने से रोका था. बांग्लादेश का मानना है कि  पाकिस्तान आतंकी समूहों की मदद कर भारत में अस्थिरता लाने की कोशिश कर रहा है.

बांग्लादेश के विदेशमंत्री ने कहा कि चरमपंथ फैलाने की कई कोशिशें हुईं. दूसरी तरफ म्यांमार के सैन्य अधिकारियों ने कहा कि बांग्लादेश-म्यांमार सीमा पर सक्रिय अराकान रोहिंग्या साल्वेशन आर्मी ने अपनी गतिविधियां बढ़ा दी हैं. पाकिस्तान लगातार इनकी मदद कर रहा है. ग्रुप का लीडर अता उल्लाह पाकिस्तान में पैदा हुआ है, उसका सऊदी कनेक्शन है.

Video: जब अटल बिहारी ने नरेेंद्र मोदी के ऊपर उठाया था हाथ और मोदी जी लग गए थे उनके गले

Video: जब अटल बिहारी वाजपेयी के गुस्से से बचाने के लिए नरेंद्र मोदी के ढाल बने थे लालकृष्ण आडवाणी

First published: 16 August 2020, 13:16 IST
 
अगली कहानी